साहब की गाड़ी से बांध दी भैंस, हाथ जोड़कर बोला- देने के लिए अब कुछ नहीं है सर!

43
Tikamgarh Madhya Pradesh news in hindi,Tikamgarh news,Tikamgarh samachar, Madhya Pradesh news, Madhya Pradesh samachar, Madhya Pradesh news in hindi,aajtak Madhya Pradesh news-Tikamgarh news,मध्य प्रदेश न्यूज़,मध्य प्रदेश समाचार,टीकमगढ़ न्यूज़, टीकमगढ़ समाचार,मध्य प्रदेश न्यूज़ इन हिंदी,आजतक लाइव,आजतक इ पेपर, tehsildar bribe case,farmer,land transfer,corruption in Madhya Pradesh ,corruption,Khargapur, Tehsil - Tikamgarh News,टीकमगढ़ न्यूज़,टीकमगढ़ समाचार

जमीन नामांतरण कराने किसान ने दिए 50 हजार रु.-दोबारा 50 हजार रिश्वत फिर मांगी, तहसीलदार को ना सुनने की आदत नहीं थी…गांधीगिरी पर उतर आया मजबूर किसान

किसान ने पूरे सिस्टम की खोल दी पोल

टीकमगढ़ (एमपी) जमीन नामांतरण के सीधे-सीधे मामले के लिए 50 हजार की मांग, दे दिए तो फिर दोबारा 50 हजार रिश्वत मांगी। तहसीलदार के आगे किसान की क्या बिसात। बेचारा गांधीगिरी पर उतर आया। तहसीलदार की गाड़ी से अपनी बेशकीमती भैंस बांध दी और हाथ जोड़ लिए। कहा-अब इसके अलावा और कुछ नहीं है साहब आपको देने के लिए। उसे पता नहीं था जो काम रिश्वत नहीं करा सकी, वह गांधीगीरी कर दिखाएगी। तहसीलदार बौखलाए। काम जल्दी करने का वादा किया। बात नहीं बनी तो पुलिस बुला ली। पुलिस ने भैंस को तो गाड़ी से छुड़ाकर पेड़ से बांध दी, लेकिन तहसीलदार के गले पड़ी आफत अभी नहीं छूटने वाली। कलेक्टर ने एसडीएम को मामले की जांच सौंप दी है।

यह भी पढ़ें :- बेवफाई के शक में पति ने पत्‍नी के प्राइवेट पार्ट में…

रिश्वत नहीं दे पाया तो साहब को देने भैंस लेकर पहुंच गया किसान
मामला खरगापुर तहसील का है। देवपुर के किसान लक्ष्मण यादव ने पांच साल पहले जमीन खरीदी थी। लेकिन तहसीलदार सुनील वर्मा ने नामांतरण का काम लटका दिया। कहा- केस चलाओ, प्रकरण पेश करो, बाद में नामांतरण की कार्रवाई होगी। इस दौरान लक्ष्मण से 50 हजार रुपए रिश्वत की मांग की गई। किसान ने किसी तरह यह मांग पूरी कर दी। काम फिर भी नहीं हुआ। एसडीएम से निवेदन किया तो उन्होंने नामांतरण के आदेश दिए लेकिन तहसील कार्यालय फिर भी अड़ा रहा। फिर से किसान के सामने 50 हजार रुपए की रिश्वत की मांग रखी गई। किसान के पास इतना पैसा नहीं था, सो उसने भैंस को रिश्वत में देने की बात सोची। इससे तहसील कार्यालय में जाे हंगामा हुआ उसने पूरे सिस्टम की पोल खोल दी। बल्देवगढ़ एसडीएम वंदना राजपूत भी मौके पर पहुंची। कलेक्टर ने उन्हें ही जांच सौंप दी है।

आरोप सही निकले तो कड़ी कार्रवाई करेंगे
खरगापुर में तहसील कार्यालय में तहसीलदार की गाड़ी से भैंस बांधने का मामला सामने आया है। किसान ने तहसीलदार पर रिश्वत लेने का आरोप लगाया है। इस संबंध में जानकारी लगते ही बल्देवगढ़ एसडीएम वंदना राजपूत को जांच सौंपी गई है। अगर जांच में किसान द्वारा लगाए गए आरोप सही पाए जाते हैं तो तत्काल कार्रवाई की जाएगी।

सौरभ कुमार सुमन, कलेक्टर
तहसीलदार बोले – नाटक कर रहा है किसान
किसान द्वारा लगाए जा रहे आरोप बेबुनियाद है, आवेदक की दो रजिस्ट्रियां थी। जिनमें से एक विक्रय से प्रतिबंधित थी जिसका मैंने नामांतरण नहीं किया। जो सही रजिस्ट्री थी उसका नामांतरण 16 फरवरी को राजस्व लोक अदालत में हो चुका है। किसान को जब दूसरी रजिस्ट्री के नामांतरण न होने की जानकारी लगी तो उसने ऑफिस आकर मुझे फंसाने के लिए यह सब नाटक रचा। हजार-पांच सौ रुपए में लोग लोकायुक्त से ट्रेस करवा देते हैं। 50 हजार कोई क्या देगा।

सुनील वर्मा, खरगापुर तहसीलदार

यह भी पढ़ें :- कुछ ऐसे मनाते हैं अपना सुहागरात इंडियन कपल्स, जानिए क्या करते…

यह भी पढ़ें :- एक बच्चे के टुकड़े-टुकड़े कर उसका खून पीने की थी तैयारी

यह भी पढ़ें :- बेटी ने पिता के साथ बनाए संबंध, छोटे भाई ने जब…

यह भी पढ़ें :- हरियाणा : JBT छात्रा से रेप कर बनाया MMS और फिर…


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें