लाइव डेथ देख सदमे में पहुंचा एक दोस्त, सुलाने के लिए देना पड़ा इंजेक्शन

23
two children died due to hit by high speed lalkuan expres,yuvraj singh,ludhiana,chandigarh,sahnewal,amritsar,dubai

खन्ना/लुधियाना। लुधियाना-चंडीगढ़ रेल मार्ग पर गुरुद्वारा कटाणा साहिब के पास रेलवे पुल पर तीन बच्चों को देख ट्रेन के ड्राइवर ने हॉर्न बजाया। पुल पर ही साइड में बनी जगह पर रुकने के बजाए तीनों ट्रैक पर ही ट्रेन के आगे दौड़ पड़े। तेज रफ्तार ट्रेन से कटकर दो की मौके पर ही मौत हो गई जबकि तीसरा बच गया।

प्री-वेडिंग शूटिंग पॉइंट बना डेथ पॉइंट

दरअसल, तीनों बच्चे रविवार को गुरुद्वारा कटाणा साहिब के पास प्री वेडिंग शूटिंग पॉइंट देखने गए थे। मृतकों की पहचान युवराज सिंह (15) और गौरव(15) के तौर पर हुई है। इनका तीसरा साथी मक्खन सिंह(12) है।

– हादसे में अपने दोस्तों की लाइव डेथ देखने के बाद मक्खन सिंह भागकर सीधा अपने घर गया और बेड पर जाकर गिर पड़ा। वह इतना सदमे में चला गया कि उसे नींद का इंजेक्शन देकर सुलाया गया।

– जीआरपी साहनेवाल के एएसआई रघुविंदर सिंह ने कहा कि सेल्फी का कोई मसला नहीं है। क्योंकि, तीनों बच्चों में से किसी के पास मोबाइल नहीं था।

तेज रफ्तार लाल कुआं एक्सप्रेस की चपेट में आए बच्चे

रामपुर गांव के पास ऐतिहासिक गुरुद्वारा कटाणा साहिब सरहिंद नहर पर स्थित है। सुबह करीब साढ़े 9 बजे तीनों बच्चे गुरुद्वारा साहिब गए। गुरुद्वारे से थोड़ी दूर पर रेल मार्ग पर नहर के ऊपर लोहे का पुल है, जहां प्री वेडिंग समेत गीतों की शूटिंग होती है। बच्चों ने शूटिंग पॉइंट देखने का प्लान बनाया और पुल पर पहुंच गए। इसी बीच चंडीगढ़ से अमृतसर जा रही तेज रफ्तार ट्रेन (14615) लाल कुअां एक्सप्रेस की चपेट में आ गए।

युवराज था इकलौता, दुबई से बुलाए पिता

युवराज 7वीं क्लास में पढ़ता था। उसके पिता जसमिंदर सिंह राजू दुबई में हैं। मां हाउस वाइफ है और बड़ी बहन दिलप्रीत 12वीं में पढ़ती है। राजू को ये कहकर दुबई से बुलाया है कि उसके बेटे का हादसा होने कारण वह गंभीर घायल है।

पिता को मना कर दोस्तों संग गया गौरव

टेलर की दुकान करे वाले बनारसी का बेटा गौरव अपने पिता को मना कर दोस्तों संग गुरुद्वारा साहिब गया था। घटना के बाद बनारसी अपने बेटे को याद कर पछतावा कर रहा था कि वे अगर बेटे को साथ ले जाता तो हादसा रुक सकता था।

एक बार रोका फिर चुपचाप पुल पर चढ़े

हादसे के समय कबाड़ी रविंदर नजदीक ही था। रविंदर ने बताया, रेलवे पुल के पास मुलाजिम मरम्मत का काम कर रहे थे। उन्होंने इन बच्चों को एक बार पुल पर जाने से रोका था। कुछ मिनट बाद वे चोरी से पुल पर जा चढ़े।