पुलिस की वर्दी पहनकर कोर्ट में गवाही देने पहुंचा 4 साल का मासूम, ये थी वजह

50
Madhya Pradesh news in hindi,Khandwa News,Khandwa samachar,Madhya Pradesh News,Madhya Pradesh samachar,Madhya Pradesh news in hindi,aajtak live Madhya Pradesh news, Khandwa News ,मध्य प्रदेश न्यूज़,मध्य प्रदेश समाचार,बड़वानी न्यूज़,बड़वानी समाचार,मध्य प्रदेश न्यूज़ इन हिंदी,आजतक लाइव,आजतक लाइव इ पेपर, Badwani Madhya Pradesh News in Hindi: Sadia B Murder case of Four-year-old child witness,Madhya Pradesh, Khandwa, Anjad, Badwani, Code of Criminal Procedure

4 साल का चश्मदीद बेटा बोला- ‘पापा ने मां को डंडे मारे, पानी डालकर आग लगा दी…,’ मासूम की बातें सुन समझ गए जज कि आखिर क्या है पानी का मतलब

पहली बार गवाह को पहनाई पुलिस की वर्दी ताकि गवाही देते समय बच्चा डरे नहीं, आत्मविश्वास से बता सके सच्चाई

बड़वानी (मध्य प्रदेश)पुलिस की वर्दी पहने चार साल का बच्चा अपने परिजन की अंगुली थामे सोमवार दोपहर 12 बजे जैसे ही जिला न्यायालय पहुंचा तो सभी की नजरें उस पर टिक गईं। दरअसल यह बच्चा अपनी मां की हत्या के आरोपी पिता के खिलाफ कोर्ट में बयान देने पहुंचा था। कोर्ट के एक कक्ष में इस बच्चे से 25 सवाल किए गए। जवाब में उसने बताया कि पापा ने मम्मी को डंडे मारे, घसीटकर ऊपर ले गए, पानी डालकर आग लगा दी। जज ने समझ लिया आखिर क्या है पानी का मतलब।

शहर के बहुचर्चित सादिया बी (25) हत्याकांड में कुल 17 गवाह है। सादिया का 4 साल का बेटा एकमात्र चश्मदीद और 11वें गवाह के रूप में सोमवार को कोर्ट पहुंचा था। कोर्ट के एक कक्ष में बच्चे के करीब एक घंटे तक बयान हुए। वही विरोधी पक्ष के अधिवक्ता ने भी बचाव पक्ष में क्रास किया।

यह भी पढ़ें :- पति के सामने गर्भवती महिला के साथ सामूहिक बलात्कार

घटना के बाद बच्चे ने कहा था मम्मी को पापा ने डंडे से मारा, जला दिया
खंडवा के सोलह खोली क्षेत्र में 24 अप्रैल 18 की रात सादिया बी का शव बाथरूम में जला हुआ मिला था। ससुराल वालों ने मामले को आत्महत्या बताया। 25 अप्रैल की सुबह बड़वानी जिले के अंजड़ से जब सादिया के परिजन खंडवा आए तो उन्होंने ससुराल पक्ष पर जलाकर मारने का आरोप लगाया। सादिया के पिता फिरोज तिगाला ने कहा- सादिया को बेटी हो गई इसलिए ससुराल वाले उसके साथ मारपीट कर प्रताड़ित करते थे। सादिया के पति मोइनुद्दीन, ससुर सलामुद्दीन, सास खातून बी, ननद शबनम उर्फ मुन्नी, जेठ इरशाद के खिलाफ शिकायत की। कोतवाली पुलिस ने आरोपियों पर हत्या का केस दर्ज किया। मामले में सादिया का बेटा जो कि घटना के समय करीब तीन साल का था, उसने पुलिस और नाना-नानी को बताया कि मम्मी को पापा ने डंडे से मारा, घसीटकर ले गए और पानी डालकर जला दिया। बच्चे ने यह बयान 9 मई 18 को बंद कमरे में अदालत के सामने दिए।

अदालत के सवाल, बच्चे के जवाब
मोइन कौन है?
बच्चा – मेरे पापा।

मोइन ने क्या किया?
बच्चा – मम्मी को मारा।

कैसे मारा?
बच्चा – डंडे से।

कहां चोट लगी?
बच्चा-सिर में।

और क्या किया?
बच्चा-घसीटकर ऊपर ले गए और पानी डालकर जला दिया।

नोट: अदालत ने इस तरह के 25 सवाल किए, लेकिन हम केवल प्रमुख सवाल ही दे रहे हैं।
पहली बार गवाह को पहनाई पुलिस की वर्दी ताकि… गवाही देते समय बच्चा डरे नहीं, आत्मविश्वास से कह सके बात

मामले में अब तक
– कुल 17 गवाहों में चश्मदीद सहित 11 के बयान हो चुके हैं।
– सादिया का पति मोइन गिरफ्तारी के बाद से जेल में ही है।
– सास-ससुर, ननद व जेठ को हाईकोर्ट से जमानत मिल चुकी है।

बच्चे की गवाही इसलिए मान्य क्योंकि वह एकमात्र चश्मदीद और बोलने में सक्षम है
सादिया हत्याकांड में उसका बेटा एकमात्र चश्मदीद है। जिसने घटना के बाद पुलिस को बताया था कि उसके पापा ने मम्मी को डंडे से मारा, घसीटकर ले गए और पानी डालकर आग लगा दी। क्योंकि घटना के समय बच्चा बोलने में सक्षम था। बातों को समझता था। प्रश्नों का उत्तर भी दे रहा था। इसलिए कोर्ट में उसकी गवाह कराई गई।

अभय दुबे, लोक अभियोजक जिला न्यायालय

डर गया था पहली पेशी पर बच्चा
उसे पुलिस की वर्दी इसलिए पहनाई ताकि उसका डर दूर हो सके। क्योंकि इससे पहले पेशी पर बच्चा डर गया था। उसने अपने नाना से कहा जो भी बोलूंगा पुलिस को बोलूंगा, मेरी मम्मी को किसने मारा। तुम कुछ नहीं करते मुझे तलवार दे दो, मोइन (पिता) को मार दूंगा। मोइन ने मम्मी को सिर पर डंडा मारा, घसीटकर ऊपर ले गया और पानी डालकर आग लगा दी।

यह भी पढ़ें :- बिना कपड़ों की गड्ढे में मिली बॉडी, दरिंदगी के बाद महिला…

चाचा, दादा और घर के बच्चों को देख नहीं निकली आवाज
इस केस में बच्चे की गवाही अहम मानी जा रही है। बयान के लिए फरवरी में दो बार तारीख मिली। पहली बार बच्चा डर गया। क्योंकि उस तारीख में उसके चाचा, दादा, घर के बच्चे व अन्य लोग कोर्ट में दिखाई दिए। वीसी के माध्यम से हुई पेशी के दौरान बच्चे ने अपने पिता को भी देख लिया। इस कारण वह कुछ बोल नहीं पाया। तारीख आगे बढ़ गई। तीसरी बार 11 मार्च सोमवार को बच्चे का बयान होना था। एक दिन पहले ही वह अपने नाना-नानी के साथ खंडवा आ गया। बच्चे ने पुलिस वर्दी की मांग की तो नाना ने किराए की वर्दी लाकर पहनाई और कोर्ट पहुंचे।

कोर्ट में बनी विवाद की स्थिति
सोमवार दोपहर करीब 12.30 बजे बच्चा अपने नाना-नानी व परिजन के साथ कोर्ट पहुंचा। यहां आरोपी पक्ष के भी करीब 20-25 लोग कोर्ट के बाहर ही खड़े हुए थे। सादिया के परिजन ने कहा – हर बार पेशी पर अदालत में भीड़ लगा लेते है। इससे हमारा बच्चा अदालत में बोल नहीं पाता है। परिजन के विराेध पर अदालत कक्ष के बाहर लगी भीड़ को हटा दिया।

यह भी पढ़ें :- द्वारपूजा से जयमाल तक की रस्में हो गईं लेकिन लास्ट में…

यह भी पढ़ें :- मौत का बदला लेने के लिए दुल्हन को भी मार दी…

यह भी पढ़ें :- युवक की जान बचाने डॉक्टरों को उसका प्राइवेट पार्ट आधा काटना…

यह भी पढ़ें :-नहीं देखी होगी ऐसी दुल्हन, इसने भगवान के सामने भी किया…

यह भी पढ़ें :- बोली- वो सर नहीं हैवान है मम्मी, इसके बाद जो बताया…


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें