दरवाजा लॉक था, खिड़की का शीशा तोड़कर निकला बाहर..बाकी लोग जिंदा जल गए

125
Uttar pradesh news in hindi,Lucknow News,Lucknow samachar,Uttar pradesh News,Uttar pradesh samachar,Uttar pradesh news in hindi,aajtak live Uttar pradesh news, Lucknow News,uttar pradesh न्यूज़,uttar pradesh समाचार,न्यूज़ न्यूज़,न्यूज़ समाचार,आजतक लाइव,uttar pradesh न्यूज़ इन हिंदी,आजतक लाइव,आजतक लाइव इ पेपर, UP News in hindi, bus accident, fire in bus, injured man, Agra Lucknow expressway, eye witness, road accident,Lucknow, Mainpuri, Agra Lucknow expressway, Saifai, Delhi

आपबीतीः रात 9 बजे बस में बैठा था, उस वक्त अंदर सिर्फ 7 लोग थे…एक बजे अचानक धमाका हुआ और खुल गई नींद…चारों तरफ था सिर्फ धुंआ…लोग चिल्ला रहे थे लेकिन कुछ दिख नहीं रहा था

दरवाजा लॉक था, खिड़की का शीशा तोड़कर निकला बाहर..बाकी लोग जिंदा जल गए

लखनऊ. मैनपुरी के पास हुए खतरनाक बस अग्निकांड में 4 लोग जिंदा जल गए। इसमें ड्राइवर, कंडक्टर सहित मां-बेटी भी शामिल हैं। वहीं, दो लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं। इसमें लखनऊ के सौरभ श्रीवास्तव भी शामिल हैं। चेहरा बुरी तरह झुलसने के कारण वो अभी आईसीयू में हैं। रात करीब डेढ़ बजे सौरभ के भाई का मोबाइल बजा। उन्हें लगा कि भाई आ गया, लेकिन फोन पर खबर मिली की सौरभ घायल हो गए हैं और सैफई के हॉस्पिटल में हैं। इसके बाद उन्हें लखनऊ लाया गया। इस दौरान रास्ते में बार-बार बेहोश हो रहे सौरभ ने भाई को आपबीती सुनाई।

अचानक हुआ धमाका, आसपास भरा था धुआं
– सौरभ ने बताया, ‘बस में मैं 5 नंबर की सीट पर था। बस में सिर्फ 7 लोग थे। रात 11 बजे मैं सो गया। फिर 1 बजे जब गहरी नींद में था तो अचानक तेज धमाका हुआ। आंख खुली तो बस में हर तरफ धुआं ही धुआं था। जलने की गंध और धुएं से दम घुटने लगा। निकलने की कोशिश की लेकिन दरवाजा लॉक था। मैं जोर-जोर से चिल्लाने लगा तो पास से गुजर रहे कुछ लो रुके। उन्होंने बस का शीशा तोड़ा। तब जाकर मैं निकल पाया। बस में से एक और युवक उतरा।’ डॉक्टर्स ने सौऱभ की स्थिति अभी गंभीर बताई है। झुलसने के साथ ही इन्फेक्शन का खतरा है।

यह भी पढ़ें :- शर्मनाक घटना : संसद हमले में शहीद की बेटी से दुष्कर्म

फायरब्रिगेड के पहुंचने तक सबकुछ हो चुका था खत्म
– लोगों की मानें तो जब तक पुलिस और फायर ब्रिगेड की गाड़ी घटनास्थल तक पहुंची उस वक्त तक आग सभी को अपने आगोश में ले चुकी थी। आग के बाद बस के अंदर का मंजर बेहद भयावह था। ज्योति और बेटी का शव बस की गैलरी में पड़ा था। कुछ ही दूरी पर बस के ड्राइवर और कंडक्टर के शव पड़े थे। डॉ. ज्योति एसजीपीजीआई के डिपार्टमेंट ऑफ मॉलीक्यूलर मेडिसिन एंड बायोटेक्नोलॉजी विभाग में सीनियर डिमॉन्स्ट्रेटर के पद पर कार्यरत थीं।

ऐसे हुआ था हादसा
– दिल्ली से लखनऊ के लिए वॉल्वो बस रात करीब 10 बजे रवाना हुई और रात 1 बजे के करीब मैनपुरी के पास हादसा हुआ। दरअसल, इस बस के पीछे एक और बस चल रही थी, जिसका अचानक टायर फट गया। जिससे पीछे से उस बस ने वॉल्वो बस में टक्कर मारी। टक्कर से बस डिवाइडर से टकरा गई और उसके एसी में आग लग गई। आग बस में इतनी तेजी से फैली कि किसी को बचने का मौका नहीं मिला। रात होने के कारण बस में मौजूद सभी लोग सो रहे थे। मौके पर पहुंची दमकल की दो गाड़ियों ने करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया था।

यह भी पढ़ें :-  ओरल सेक्स के लिए पति बनाता है दबाव, 377 के तहत…


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें