डर से सीट के नीचे छिपे बच्चे, किसी को कांच के टुकड़े लगे-किसी को पत्थर

63
Mp news in hindi,Indore News,Indore samachar,Mp News,Mp samachar,Mp news in hindi,aajtak live Mp news - Indore News ,मध्य प्रदेश न्यूज़,मध्य प्रदेश समाचार,इंदौर न्यूज़,इंदौर समाचार,मध्य प्रदेश न्यूज़ इन हिंदी,आजतक लाइव,आजतक लाइव इ पेपर - Indore Madhya Pradesh News In Hindi: Indore Madhya Pradesh News, Madhya Pradesh News, Madhya Pradesh Samachar, Indore Samachar, Indore News, Indore Madhya Pradesh Dainik Bhaskar News, इंदौर मध्य प्रदेश न्यूज इन हिंदी, न्यूज आजतक लाइव,Madhya Pradesh

अंकल मत मारो प्लीज…’ स्कूल बस के अंदर से चीखते रहे मासूम; लेकिन गांववाले बस पर बरसाते रहे बड़े-बड़े पत्थर, कंडक्टर ने गेट बंद किए तो बस पर लटक गए लोग

डर से सीट के नीचे छिपे बच्चे, किसी को कांच के टुकड़े लगे-किसी को पत्थर

इंदौर (मध्य प्रदेश) बच्चों को ले जा रही सोनी इंटरनेशनल स्कूल की बस की चपेट में बकरी का बच्चा आ गया। उसकी मौत हुई तो आक्रोशित ग्रामीणों ने बस पर पथराव कर दिया। बस में बैठे नर्सरी से आठवीं कक्षा के बच्चे घबरा गए और चीखने लगे। कंडक्टर ने खिड़कियां लगाकर बच्चों को नीचे लेटने को कहा। वहीं बस के ब्रेक फेल हो गए। ग्रामीणों को लगा कि ड्राइवर बस नहीं रोक रहा है तो पीछे दौड़े और पत्थर फेंकते रहे। डरे-सहमे मासूम चीखते रहे मत मारो-मत मारो, लेकिन फिर भी स्कूल बस पर पथराव करते रहे ग्रामीण।

एक महिला चलती बस में गेट पर लटक गई और ड्राइवर की गर्दन दबोच ली। ड्राइवर ने बस खेत में उतार दी, तब भी ग्रामीण पत्थर फेंकते रहे। बस में 50 बच्चे सवार थे। इनमें से नौ को कांच फूटने से चोट लगी। बस के सीसीटीवी कैमरे से पुलिस ने 13 ग्रामीणों की पहचान कर बलवे का केस दर्ज किया।

यह भी पढ़ें :- रैली के आगे फीकी पड़ गई जवान की शहादत, बिहार के लाल शहीद पिंटू सिंह को श्रद्धांजलि देने नहीं पहुंचा कोई मंत्री

ड्राइवर-कंडक्टर मासूम बच्चों की दुहाई देते रहे लेकिन नहीं माने ग्रामीण
एसपी पश्चिम सूरज वर्मा ने बताया कि घटना सुबह 9 बजे काजी पलासिया गांव के पास हुई। बस (एमपी 09 एफए 8616) के सामने आए बकरी के बच्चे को बचाने के लिए ड्राइवर ने तेजी से ब्रेक लगाए तो ब्रेक फेल हो गए। इसी दौरान वहां मौजूद ग्रामीण उस पर टूट पड़े। ड्राइवर-कंडक्टर बच्चों का हवाला देकर ग्रामीणों को रोकते रहे पर वे नहीं माने। बस में मौजूद शिक्षक ने स्कूल प्रबंधन को सूचना दी तो डायल-100 मौके पर पहुंची। पुलिस को देख ग्रामीण भाग गए।

गेट बंद किए तो लोग ऊपर चढ़कर पथराव करने लगे
बस ड्राइवर मुकेश ने बताया कि वह बच्चों को स्कूल ले जा रहा था। तभी खेत से बकरी का बच्चा सामने आ गया। उसे बचाने में ब्रेक फेल हो गए। ब्रेक फेल होने से गाड़ी चल रही थी तो ग्रामीणों को लगा रोका नहीं और पथराव कर दिया। हमने बस के गेट और खिड़कियों के कांच बंद कर दिए, फिर भी लोग ऊपर चढ़कर पथराव करने लगे।

बच्चे बोले- किसी को पत्थर तो किसी को कांच के टुकड़े लगे
बच्चों ने बताया कि ग्रामीणों ने बड़े-बड़े पत्थर से बस पर हमला किया। कांच फूटने से कई बच्चे रोने लगे। पत्थर बस में भी आए। किसी को पत्थर तो किसी को कांच के टुकड़े लगे और खून बहने लगा। हम बचाओ-बचाओ चिल्लाने लगे, फिर भी लोग पत्थर मारते रहे।

यह भी पढ़ें :- यौन शोषण: शेल्‍टर होम में दफन कई लड़कियां?

यह भी पढ़ें :- शव को एक टक देख रोती रही पत्नी, 2 महीने की…

यह भी पढ़ें :- सेक्स का यह तरीका आपके पार्टनर को कर देगा बेकाबू

यह भी पढ़ें :- इस तरह कि लड़कियां ज्यादा करती हैं सेक्स

यह भी पढ़ें :- बलात्कार साक्ष्य: जानें क्या है ‘टू फिंगर टेस्ट’


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें