आंखों देखी: दो कदम की दूरी पर खड़ी थी मौत, ऐसे बच गई जान

30
Maharashtra news in hindi,Mumbai News,Mumbai samachar,Maharashtra News,Maharashtra samachar,Maharashtra news in hindi,aajtak live Maharashtra news, Mumbai News,maharashtra न्यूज़,maharashtra समाचार,मुंबई न्यूज़,मुंबई समाचार,आजतक लाइव,maharashtra न्यूज़ इन हिंदी,आजतक लाइव,आजतक लाइव इ पेपर, Mumbai Bridge Collapse updates, mumbai bridge collapse, Maharashtra news in hindi,Mumbai News,Mumbai samachar,Maharashtra News,Maharashtra samachar,Maharashtra news in hindi,aajtak live Maharashtra news, Mumbai News ,maharashtra न्यूज़,maharashtra समाचार,मुंबई न्यूज़,मुंबई ब्रिज हादसा, मुंबई हादसा, maharashtra न्यूज़ इन हिंदी,आजतक लाइव,आजतक लाइव इ पेपर, Video, Mumbai news Live Updates, Maharashtra News In Hindi, CST Bridge collapse, Witness Said About, PM Modi Tweet, Devendra Fadnavis,,Mumbai, Chhatrapati Shivaji Maharaj Terminus, Mumbai Mirror, CP Tank, Parel

मुंबई ब्रिज हादसा; 30 फीट की ऊंचाई से गिरी महिला, चश्मदीद ने कहा- उसके चेहरे से खून बह रहा था, सबसे लगा रही थी एक ही गुहार – ‘मुझे एंबुलेंस में मत डालो, मैं उसे लिए बिना नहीं जाऊंगी’

आंखों देखी: दो कदम की दूरी पर खड़ी थी मौत, ऐसे बच गई जान

मुंबई. मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस के पास गुरुवार की शाम 7.30 बजे बड़ा हादसा हो गया। स्टेशन को जोड़ने वाले फुटओवर ब्रिज का एक हिस्सा गिर गया। हादसे में 6 लोगों की मौत हो गई, जबकि 34 लोग घायल हो गए।पुल ऐसे समय में गिरा, जब उसके ऊपर और नीचे काफी भीड़भाड़ होती है। बता दें कि ब्रिज के आस-पास कई बड़े सरकारी दफ्तर हैं। वहीं, हादसे में बाल-बाल बचे लोग इसे दूसरा जन्म बता रहे हैं। चश्मदीदों ने बताया कि जब पुल का हिस्सा गिरा, तब सड़क पर काफी गाड़ियां थीं। उस मंजर को यादकर उनका दिल बैठ जाता है।

मुंबई मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक, 30 फीट की ऊंचाई से जब 40 साल की हर्षदा वाघरे गिरी थी तब वह रेस्क्यू करने वालों से बार-बार एक ही बात कह रही थी- प्लीज मेरा पर्स ढूंढकर दे दीजिए। मैं उसे लिए बिना नहीं जा जाऊंगी। हर्षदा के चेहरे से तब काफी खून बह रहा था। लेकिन वह गुहार लगाती रही – जब तक पर्स नहीं मिल जाता, मुझे एंबुलेंस में मत डालो।

यह भी पढ़ें :- खौफनाक सच : पुरुषों के सामने बदलवाएं कपड़े, निजी अंगों में…

5 साल की बच्ची की मां हर्षदा कालबादेवी गार्मेंट बाजार स्थित एक फर्म में फोन ऑपरेटर हैं। काम खत्म कर हर्षदा सीएसटी से परेल के लिए ट्रेन पकड़ने जा रही थीं कि तभी पुल पर हादसा हो गया। उन्होंने बताया कि उन्हें पर्स की इसलिए सबसे ज्यादा चिंता हो रही थी, क्योंकि उसमें पैसों के अलावा फोन और आधार कार्ड था। लेकिन अफसोस उनका पर्स नहीं मिला। हर्षदा को सेंट जॉर्ज हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया।

‘दो कदम की दूरी पर खड़ी थी मौत’
वहीं, सीपी टैंक में जॉब करने वाले रूपेश परब इस हादसे में बाल-बाल बचे हैं। वे इसे दूसरा जन्म बता रहे हैं। चश्मदीद रूपेश ने बताया, मैं 10 साल से पुल का इस्तेमाल कर रहा हूं। काम से लौटकर ब्रिज पर चढ़ा ही था कि दो कदम दूर से पुल का हिस्सा ढह गया। ये देखकर कुछ देर के लिए मेरा दिमाग शून्य हो गया। इसके बाद घरवालों व दोस्तों को फोन कर हादसे और मौत से सामना होने की जानकारी दी।

ब्रिज से लटककर बचाई जान
रिपोर्ट के मुताबिक, उल्हासनगर निवासी राजेंद्र गुप्ता ने पुल से लटककर अपनी जान बचाई। उनसे केवल दो कदम की दूरी पर मौत थी। आंखों के सामने पुल का हिस्सा गिरते देख वे सतर्क हो गए और पुल से लटककर अपनी जान बचाने में सफल रहे। जिसके बाद दो लोग उन्हें सुरक्षित जगह पर ले गए। राजेंद्र ने बताया, रोजाना की तरह वे कर्जत लोकल पकड़ने के लिए सीएसटी स्टेशन की ओर जा रहे थे। एकदम से उनकी नजरों के सामने पुल का भारी मलबा गिरा। राजेंद्र कहते हैं, शायद ये मेरा दूसरा जन्म है। भगवान ने मेरे कदम रोक दिए, नहीं तो आज मैं जीवित नहीं होता।

यह भी पढ़ें :- जानिए हलाला हुल्ला और खुल्ला के बारे में आखिर क्या होता…

यह भी पढ़ें :- घर में जोर-जोर से चिल्लाते हुए घुसी 25 वर्षीय लड़की ने…


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें