सुबह जब दूध वाला आया तब घरवालों को पता चला पूरा मांजारा, एक्सपर्ट बोले आप न करें ऐसी गलती

317
aajtaklives news, news in hindi, hindi news, crime news in hindi, Jalandhar Punjab News Husband wife dead body found in bedroom,Jalandhar, Bihar, Lakhisarai

बेडरूम में एक भयंकर गलती कर सो गए पति-पत्नी, सुबह इस हालत में मिली दोनों की लाश, सदमे में 11 साल का बेटा और 8 साल की बेटी

जालंधर। मार्बल ठेकेदार 40 साल के रंजीत कुमार और उनकी 33 साल की पत्नी रीटा की दम घुटने से मौत हो गई। दंपति ने सर्दी से बचने के लिए बेडरूम में तसले में आग जलाकर रख दी। आग किससे जलाई थी ये स्पष्ट नहीं हो सका। एसीपी सरबजीत राय ने कहा- पोस्टमार्टम में मौत का कारण दम घुटना आया है। दोनों का शुक्रवार बाद दोपहर संस्कार कर दिया गया। अवतार नगर में शुक्रवार सुबह साढ़े 8:30 बजे उस समय सनसनी फैल गई जब गली नंबर-9 स्थित कोठी नंबर 156 में रहते रंजीत और पत्नी रीटा बेडरूम में मृत पाए गए। अंदर तसला रखा था। बेडरूम की जांच की गई तो ये बात सामने आई कि कोई रोशनदान नहीं था। बेडरूम में खिड़की तो थी पर ज्यादा सर्दी के कारण बंद थी।

यह भी पढ़ें : बरेली: 10 दिन तक 7वीं की छात्रा से किया रेप, फिर उसे बेच दिया

बड़ा बेटा बिहार में कर रहा पढ़ाई…
बिहार के रहने वाले अमरजीत ने बताया कि वह मूलरूप से बिहार के लक्खीसराय के रहने वाले हैं। अवतार नगर में बड़े भाई रंजीत का खुद का घर है। वह एलपीयू में कैशियर है। 15 साल का बड़ा भतीजा बिहार में दसवीं में पढ़ रहा है। भतीजा और भतीजी उनके साथ पहली मंजिल पर बने बेडरूम में सोते हैं और भाई और भाभी नीचे बेडरूम में।

सुबह दूध वाला आया तब पता चला पूरा माजरा
सुबह करीब 8 बजे दूध वाला आया तो भतीजा विवेक उठा। भाभी बाहर नहीं आईं। विवेक माता-पिता के बेडरूम में गया। मां को उठाने की कोशिश की। मां नहीं उठी तो विवेक रोने लगा। अमरजीत नीचे आया तो देखा भाई और भाभी की सांस नहीं चल रही थी। अमरजीत और बच्चे रोने लगे। मोहल्ले के लोग आ गए। रंजीत और रीटा की मौत हो चुकी थी।

चाचा के पास सो रहे थे बेटा और बेटी
मृतका रीटा की छोटी बेटी तन्नू कभी कभार ही मां के साथ सोती थी। भाई रोज चाचा के साथ उनके कमरे में ही सोता है। गुरुवार रात भी वह मां के साथ सोने की जिद कर रही थी मगर भाई विवेक के चाचा संग सोने को लेकर वह भी भाई के साथ चली गई। वो चाचा के पास सोने न जाती तो शायद उसके साथ भी अनहोनी हो सकती थी।

यह भी पढ़ें : बिहार में निर्वस्त्र करके सड़क पर घुमाई गई एक मां के…

मां-बाप की मौत के बाद सदमे में हैं 11 साल का बेटा और 8 साल की बेटी
11 साल का विवेक और उसकी 8साल की छोटी बहन तन्नू मां-बाप की मौत के बाद सदमे में हैं। दोपहर को जब मां-बाप की लाशें घर पहुंचीं तो दोनों बच्चे बेसुध हो गए। मोहल्ले के लोग दोनों को दिलासा देकर संभालने में जुट गए। पहले फैमिली दोनों लाशें लेकर बिहार जाना चाहती थी पर बाद में रिश्तेदारों ने यहीं पर संस्कार करने का निर्णय लिया गया।

एक्सपर्ट: आग जलाकर वेंटिलेशन का जरूर रखें ध्यान…
जब कमरा बंद कर आग जलाई जाती है तो ऑक्सीजन खत्म होने लगती है। सिर्फ मोनो ऑक्साइड रह जाती है। बाथरूमों में लगे गैस गीजर से भी मोनो ऑक्साइड ही निकलती है। यह न्यूरो टाॅक्सिक है जो नसों पर अटैक करती है। नसें निष्प्रभावी होने लगती हैं और व्यक्ति नींद में ही बेसुध हो जाता है। जब मोनोआक्साइड पूरी तरह खून में मिल जाती है तो अंग काम करना बंद कर देते हैं। नींद में ही मौत हो जाती है। अगर रात को कमरे में आग जलानी हो तो हवा की वेंटिलेशन जरूर होनी चाहिए।
– डाॅ. राजीव शर्मा, चेस्ट स्पेशलिस्ट

यह भी पढ़ें : एड्स पीड़ित बाप ही 6 साल से लूटता रहा बेटी की अस्मत

यह भी पढ़ें : वो महिला जिसने भारत के नेताओं के साथ बिस्तर पर गुजारी कई रातें

यह भी पढ़ें : बरेली: 10 दिन तक 7वीं की छात्रा से किया रेप, फिर उसे बेच दिया

यह भी पढ़ें : सुहागरात मना रहे थे बेटी और दामाद, तभी कमरे में घुस आई माँ और फिर…


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें