सगाई के बाद मंगेतर को आया पैरालिसिस अटैक, फिर भी मेजर ने नहीं छोड़ा था साथ

0
20
Army Major Nair Had Married His Fiance After She Suffered Paralysis Attack,Rajouri, Jammu and Kashmir, Orchha, Pune

कहानी राजौरी में शहीद हुए उस मेजर की, जिसने मंगेतर के पैरालाइज्ड होने के बाद भी नहीं छोड़ा था उसका साथ, विरोध के बावजूद उसी के साथ की थी शादी

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर के राजौरी में हुए आईईडी विस्फोट में तीन दिन पहेल भारतीय सेना के मेजर मेजर शशिधरन वी नायर शहीद हो गए। एक तरह जहां उनकी शहादत को याद किया जा रहा है। वहीं उनकी से जुड़े खास कई किस्से भी सोशल मीडिया पर शेयर हो रहे हैं। बताया जाता है कि सगाई के बाद मेजर शशिधरन की मंगेतर को लकवा मार गया था लेकिन उन्होंने इसके बाद भी अपनी मंगेतर का साथ नहीं छोड़ा और उन्हीं के साथ शादी के बंधन में बंधे।

मंगेतर के मार गया लकवा
– मेजर शशिधरन वी नायर की पैदाइश पुणे के पास खडकवस्ला गांव में हुई और वहीं उनका बचपन का काफी वक्त बीता। बचपन से ही वो सेना में जाना चाहते थे।
– शशिधरन ने सेंट्रल स्कूल से अपनी पढ़ाई पूरी की और एनडीए में गए और सेना को लिए चुने गए। इसके बाद उन्होंने अपने प्यार को आगे बढ़ाने का फैसला किया।
– शशिधरन ने तृप्ति नाम की लड़की को पसंद करते थे और उन्होंने उनसे शादी करने का फैसला किया। दोनों की फैमिली भी इसके लिए राजी हो गई।
– पर सगाई के बाद ही मेजर की मंगेतर तृप्ति को लकवा मार गया। इसके चलते उनके शरीर का पूरी निचले हिस्से ने काम करना बंद कर दिया।

शादी के फैसले पर अड़े रहे
– इसके बाद मेजर पर ये शादी न करने का दबाव पड़ने लगा लेकिन वो अपने फैसले पर अड़े रहे और मंगेतर की बीमारी को प्यार के बीच रुकावट बनने नहीं दिया।
– आखिरकार दोनों की शादी हो गई और दोनों बहुत खुश भी थे। मेजर के साथ हर फंक्शन और पार्टी में उनकी वाइफ तृप्ति नजर आती थीं, लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था।
– जम्मू-कश्मीर के राजौरी में हुए आईईडी विस्फोट में मेजर शशिधरन शहीद हो गए। रविवार को राजकीय सम्मान के साथ उनके पैतृक गांव उनका अंतिम संस्कार किया गया।


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें