रोते हुए पिता ने कहा- …तो हैवानियत के आगे यूं जिंदगी नहीं हारती मेरी बेटी

74
aajtaklives news, news in hindi, hindi news, crime news in hindi, rajasthan news, eve teasing,girl commit suicide due to molestation,police inaction,crime against woman,bharatpur news,Rajasthan, Bharatpur

अपनी इज्जत बचाने 12वीं की छात्रा ने की खुदकुशी; जिस स्टांप पर दबंगों ने लिखा था राजीनामा, उसी पर सुसाइड नोट लिख फंदे से झूल गई वो, लिखा- मुझे जाल में फंसाना चाहते थे…

भरतपुर (राजस्थान)। पड़ोस में रहने वाले युवक और उसके साथियों द्वारा अवैध संबंध बनाने के दबाव में झुकने के बजाए निकटवर्ती मडरपुर गांव में रहने वाली 12वीं की एक छात्रा ने जान देकर अपनी इज्जत बचाने के लिए फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। दुर्भाग्य की बात यह है कि लड़की से छेड़छाड़ को लेकर आरोपित युवक कई बार पुलिस को सौंपे गए।

मामले को लेकर पंचायत भी हुई। आरोपित पक्ष की ओर से थाने में 100 रुपए के स्टाम्प पर बाकायदा राजीनामा भी लिखा गया। लेकिन दबंगों को ना तो पुलिस का खौफ था ना ही समाज की चिंता। वे तो बस उस किशोरी को अपनी हवस का शिकार बनाने पर तुले थे। उनके आतंक से परेशान होकर आखिर किशोरी ने खुद को फांसी लगा ली। मरने से पहले उसी 100 रुपए के स्टाम्प पर सुसाइड नोट लिख गई जिस पर थाने में माफीनामा लिखा गया था। यह वारदात बेटियों को सुरक्षा देने में नाकाम पुलिस और समाज के संवेदनहीन चेहरे को उजागर कर गई। उद्योग नगर थानाधिकारी विनोद सांवरिया का कहना है कि 18 जनवरी को सुबह 4 बजे पीड़ित परिवार ने आरोपी दीपक को पकड़कर पुलिस को सौंपा था। लेकिन, सुबह 10 बजे पीड़ित पक्ष को साथ लेकर दीपक के परिवार के कई लोग थाने पर आ गए और कहा कि हमने राजीनामा कर लिया है। हम कोई कार्यवाही नहीं करना चाहते। ऐसे में पुलिस क्या कर सकती है। अब मामला दर्ज कर लिया गया है

यह भी पढ़ें : लव जिहाद का चौंकाने वाला मामला: अश्लील फोटो खींचकर बर्बाद करनी…

ये लिखा सुसाइड नोट में…मुझे जाल में फंसाना चाहता था इसलिए फांसी लगा रही हूं: मृतका
एक दिन पूर्व जिस स्टांप पर समझौता हुआ था उसी के पीछे मृत किशोरी ने सुसाइड नोट लिखा है। इसमें उसने कहा है कि दीपक दो बार गंदी नजर से मेरे घर में घुसा। मेरे घर वालों ने उसे पुलिस को पकड़वा दिया। फिर भी नहीं माना। मैं ऐसी बुरी लड़की नहीं हूं। वह मुझे जबरदस्ती अपने जाल में फंसाना चाहता है। इसलिए मैंने फांसी लगाई है।

पिता बोला- यदि सुरक्षा का थोड़ा सा भी भरोसा दिलाया होता तो हैवानियत के आगे यूं जिंदगी नहीं हारती बेटी
फ्लैश बैक…
पीड़ित पक्ष का आरोप है कि गांव का ही एक युवक दीपक पिछले डेढ़ साल से 12वीं की छात्रा के पीछे पड़ा था। इसमें तीन अन्य साथी भी उसका सहयोग कर रहे थे। करीब एक साल पहले भी दीपक बुरी नीयत से रात्रि के समय घर में घुस आया था। उसकी धमक सुनकर परिवार के लोग जाग गए। उसे डांटा तो वह भाग गया। बाद में उसके परिजनों को शिकायत की तो लोकलाज का भय बताकर मामला दबा दिया गया। उसके बाद भी ये युवक छात्रा से रास्ते में बदतमीजी करने से बाज नहीं आए। दो दिन पहले ही 17 जनवरी को रात्रि ढाई बजे दीपक फिर से घर में घुस आया। पौरी में सो रही मां को जैसे ही आहट पता चली तो उसने शोर मचाया। जिस पर परिवार के सदस्य जाग गए, उसे पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया। इसके बाद 18 जनवरी को थाना उद्योग नगर में दीपक और उसके परिवार के लोगों ने दबाव बनाकर 100 रुपए के स्टांप पर राजीनामा कर लिया। लेकिन उसी दिन शाम को जब छात्रा अपने नोहरे से खाना खाने के लिए घर लौट रही थी तो दीपक ने उस पर फिर अवैध संबंध बनाने का दबाव बनाया और जान से मारने की धमकी दी। यह बात छात्रा ने रात्रि में ही घर वालों को बताई तो पिता ने दिलासा दी कि सुबह इसकी शिकायत पुलिस में करेंगे। लेकिन, सुबह साढ़े पांच बजे जब वह जागा तो बेटी चारपाई पर नहीं मिली। सोचा बेटी को दरिंदा उठा ले गया। भय से चीख पुकार की। इससे मेरे बच्चे जाग गए। कमरे से बाहर निकल कर देखा तो बेटी का शव पौरी में गर्डर से रस्सी पर लटका मिला।

यह भी पढ़ें : वाइफ समझ बेटी का कर दिया रेप पिता की शादी में…

क्या गरीबों को समाज में जीने का कोई हक नही
नाबालिग छात्रा के पिता ने मीडिया को बताया कि लगता है गरीबों को अब समाज में जीने का कोई हक नहीं है। पुलिस और समाज के लोगों ने दबंगों का ही साथ दिया। यदि बेटी को सुरक्षा का थोड़ा सा भी भरोसा दिलाया होता तो आज हैवानियत के आगे वह शर्मिंदगी से जिंदगी नहीं हारती। मेरी तो न केवल इज्जत- आबरू गई बल्कि संसार ही लुट गया। बड़े नाज से पाल रहा था उसको, एक पल में ही माटी का पुतला हो गई। मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि मुझे ऐसे दिनों का सामना करना पड़ेगा।

दो बहनों में सबसे बड़ी थी किशोरी 
मृत 16 वर्षीय किशोरी गांव के सरकारी स्कूल में 12 वीं कक्षा में पढ़ती थी। दो बहनों में वह बड़ी थी, उसके दो भाई भी हैं। पिता मजदूरी करके परिवार का पालन पोषण करता है। जबकि युवक दबंग परिवार से है, उसके पिता के पास बीसों बीघा खेती है और अन्य व्यवसाय भी हैं। घटना से हर कोई व्यक्ति व्यथित था।

यह भी पढ़ें : बरेली: 10 दिन तक 7वीं की छात्रा से किया रेप, फिर…

यह भी पढ़ें : बिहार: 10 साल की बच्ची से कार में सामूहिक दुष्कर्म, 2…

यह भी पढ़ें : लव जिहाद का चौंकाने वाला मामला: अश्लील फोटो खींचकर बर्बाद करनी…


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें