यहां चारों ओर सिर्फ ‘हर-हर गंगे’ और ‘मां गंगा’ के लग रहे हैं जयकारे

0
32
Kumbh Mela 2019, prayagraj kumbh, January 15 makar sankranti, first royal bath photos, Shahi snan, Smriti Irani, Dip Kumbh Mela, Kumbh Mela 2019, kinnar akahada, Makar Sankranti, Prayagraj,Prayagraj, Kumbh Mela Prayagraj The 39, Smriti Irani, Ganga, Yamuna, Makar Sankranti, Britain, India, America, France

प्रयागराजमकर संक्रांति पर शाही स्नान के साथ मंगलवार को कुंभ मेले का आगाज हो गया। 12 लाख की आबादी वाले शहर में पहले दिन दो करोड़ लोगों ने गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती के संगम में डुबकी लगाई। एडीएम कुंभ दिलीप कुमार त्रिपुरायन ने दो करोड़ से ज्यादा श्रद्धालुओं के स्नान की पुष्टि की है। उन्होंने कहा- संगम स्थल पर 24 प्रवेश द्वार बनाए हैं। हर द्वार पर गिनती हो रही है।

कुंभ में पहली बार किन्नर अखाड़े ने किया शाही स्नान
प्रयागराज कुंभ में पहली बार किन्नर अखाड़े ने भी शाही स्नान किया। अखाड़े की प्रमुख लक्ष्मी नारायण ने सबसे पहले स्नान किया। इसके बाद अन्य करीब 500 किन्नर संन्यासियों ने स्नान किया। इससे पहले मकर संक्रांति पर सुबह ब्रह्ममुहूर्त में 5:15 बजे कुंभ का पहला शाही स्नान शुरू हुआ। सबसे पहले महानिर्वाणी और श्री पंचायती अटल अखाड़े ने स्नान किया। किन्नर और जूना अखाड़े एक साथ तीसरे नंबर पर पहुंचे। इस दौरान विभिन्न अखाड़ों के साधु-संत सोने-चांदी की पालकियों, हाथी-घोड़े पर बैठकर संगम पर पहुंचे। श्रद्धालुओं पर हेलीकॉप्टर से फूलों की बारिश की गई। संगम पर सुबह 10 डिग्री से भी कम तापमान था।

तीन भागों में बंटे हैं 14 अखाड़े
सभी 14 अखाड़ों को संन्यासी, बैरागी और उदासीन भागों में बांटा गया है। सबसे पहले संन्यासी अखाड़े, फिर बैरागी और अंत में उदासीन अखाड़ों के साधु-संतों ने स्नान किया। सभी अखाड़ों को स्नान के लिए 30 से 45 मिनट दिया गया था।

काम की खबर: 14 से कम उम्र के बच्चों को रेडियो टैग लग रहा
पुलिस कुंभ में 14 साल से कम उम्र के बच्चों को रेडियो फ्रीक्वेंसी आईडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) टैग लगा रही है। ताकि भीड़ में खोने वाले बच्चों का पता लगाया जा सके। पुलिस ने इसके लिए 40,000 आरएफआईडी टैग मंगाया है। आरएफआईडी बेतार संचार का साधन है। इससे किसी वस्तु या व्यक्ति का पता लगाने के लिए इलेक्ट्रो-मैग्नेटिक स्पेक्ट्रम के रेडियो फ्रीक्वेंसी हिस्से में विद्युत चुंबकीय तरंगों का इस्तेमाल किया जाता है।

कुंभ मेले में श्रद्धालुओं को मौसम की जानकारी देने वाला एप लाॅन्च
– श्रद्धालुओं को मौसम की जानकारी देने वाला मोबाइल एप कुंभ मेला वेदर सर्विस लॉन्च किया गया है।
– मेले में 15 खोया-पाया सेंटर बनाए गए हंै। पहली बार कुंभ मेले में यह कैंप 1946 में लगाया गया था।
– पहले दिन बड़ी संख्या में विदेशियों ने भी स्नान किया। कुंभ में 180 देशों के लोगों के आने की उम्मीद है।

10 हजार साधु-संतों ने स्नान किया
कुंभ मेला प्रशासन के मुताबिक पहले शाही स्नान पर 14 अखाड़ों के 10 हजार से ज्यादा साधु-संतों ने संगम पर स्नान किया।

सीएनएन, अमेरिका- पृथ्वी पर श्रद्धालुओं का सबसे बड़ा जमावड़ा, ब्रिटेन से ज्यादा लोग आएंगे
पृथ्वी पर श्रद्धालुओं के सबसे बड़े जमावड़ा वाला मेला प्रयागराज कुंभ भारत में शुरू हो गया है। इसमें 12 करोड़ तीर्थयात्रियों के पहुंचने की उम्मीद है। ये संख्या ब्रिटेन और फ्रांस जैसे देशों से ज्यादा होगी। ये दुनिया में मानवता के लिए एकजुट होने वाली सबसे बड़ी तादाद है।

बीबीसी, ब्रिटेन- भारत में मानवता का सबसे बड़ा समागम, चारों ओर सिर्फ हर-हर गंगे के जयकारे
भारत में मानवता का सबसे बड़ा समागम कुंभ मेला शुरू हाे गया है। इसमें गंगा और यमुना के संगम पर करोड़ों लोग स्नान करने पहुंचे हैं। पहले ही दिन करीब 1.5 करोड़ लोगों ने स्नान किया। यहां चारों ओर सिर्फ ‘हर-हर गंगे’ और ‘मां गंगा’ के जयकारे लग रहे हैं।

कहानी राजौरी में शहीद हुए उस मेजर की, जिसने मंगेतर के पैरालाइज्ड होने के बाद भी


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें