बिहार में दर्दनाक हादसा: दिल्ली जा रही बस में लगी आग, जिंदा जल गए 27 लोग

0
146
Bus accident

मुजफ्फरपुर [जेएनएन]। मुजफ्फरपुर से दिल्ली जा रही एक बस मोतिहारी के  एनएच-28 पर अचानक पलट गई, जिससे उसमें आग लग गई। बताया जा रहा है कि दुर्घटना के कारण बस सवार 27 यात्रियों की झुलसकर मौत हो गई, हालांकि आंकड़े की आधिकारिक पुष्टि अभी तक नहीं हो सकी है।
दुर्घटना पूर्वी चंपारण जिला मुख्‍यालय मातिहारी के समीप कोटवा क्षेत्र में बंगरा के समीप मोगा होटल के पास गुरुवार की शाम में हुई। दुर्घटना में मृतकों की संख्‍या कम हो सकती थी, अगर राहत व बचाव कार्य समय पर शुरू हो जाता। हादसे के एक घंटे के बाद फायर ब्रिगेड की टीम मौके पर पहुंची। तब तक बस जल चुकी थी। इससे लोगों में आक्रोश है।
बिहार के आपदा मंत्री दिनेश चंद्र यादव ने मोतिहारी बस हादसे में 27 यात्रियों की मौत की जानकारी मिलने की बात कही है। घटना पर राज्यपाल सत्यपाल मलिक और सीएम नीतीश कुमार ने दुख जताया है। मुख्‍यमंत्री ने मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख मुआवजा देने की घोषणा की है। आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव प्रत्यय अमृत के मुताबिक दुर्घटनाग्रस्‍त बस से आठ लोगों को सुरक्षित निकाला गया है।

मुजफ्फरपुर से दिल्‍ली जा रही थी बस
मिली जानकारी के मुताबिक साहिल बस सर्विस की बस मुजफ्फरपुर के बैरिया बस स्‍टैंड से दिल्ली के लिए खुली थी। बस से दिल्ली जाने के लिए 32 लोगों ने अॉनलाइन बुकिंग कराई थी। बस में कितने यात्री सवार थे, इसकी जानकारी अभी तक नहीं मिल सकी है। वैसे, बस में 50 यात्रियों के सवार होने की जगह थी। बस मालिक संतोष कुमार दुर्घटना के बाद से फरार है। बताया जा रहा है कि फर्जी नंबर लेकर बस का परिचालन किया जा रहा था।
बस का हो रहा था अवैध परिचालन
बिहार राज्‍य ट्रांसपोर्ट फेडरेशन के अध्‍यक्ष ने कहा कि मुजफ्फरपुर से दिल्ली के लिए बस का अवैध परिचालन किया जा रहा था। इसपर रोक लगाने की मांग परिवहन विभाग से की गई थी। सभी डीटीओ को भी पत्र लिखा गया था। लेकिन, कोई कार्रवाई नहीं हुई और यह हादसा हो गया। तिरहुत प्रमंडल के आयुक्त ने भी बस परिचालन को अवैध बताया है।

अभी तक की जानकारी के मुताबिक बस में सवार घायल यात्रियों को बाहर निकाला जा चुका है। मौके पर एडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें पहुंच चुकी हैं और राहत-बचाव कार्य जारी है। बुरी तरह घायल यात्रियों में श्रृति कुमारी (दरभंगा), संजीव कुमार (समस्तीपुर), चिंटू चौधरी (समस्तीपुर), राजदेव यादव (मुजफ्फरपुर), रिंकू कुमारी (बेगूसराय) व अमित कुमार (बेगूसराय) शामिल हैं।

ऐसे हुई दुर्घटना
कहा जा रहा है कि बस की रफ्तार तेज थी और सामने से आ रही एक बाइक को बचाने में बस एक गड्ढ़े की वजह से असंतुलित होकर पलट गई और उसमें आग लग गई। देखते ही देखते बस धू-धूकर जलने लगी। बस में सवार लोगों को निकलने का मौका भी नहीं मिला।

passengers burnt alive

राहत व बचाव में हुआ विलंब
स्थानीय लोगों ने जब धुंआ देखा तो पुलिस और प्रशासन को घटना की जानकारी दी। लोगों ने खुद से बस की आग को बुझाने का प्रयास किया। लेकिन, लपटें इतनी तेज थीं कि वे नाकामयाब रहे। फायर ब्रिगेड के आने में विलंब हुआ, जिससे मौत का आंकड़ा बढ़ गया। स्थानीय लोगों ने खुद से बालू मिट्टी और पानी के सहारे आग को बुझाने का प्रयास किया और जल रही बस के भीतर से बचे लोगों को भी निकाला।

Bus accident

आग लगने से बस पचास प्रतिशत से ज्यादा जल चुकी है। अस्पताल में घायल लोगों को बचाने का काम किया जा रहा है। बस एयरकंडीशन थी और पूरी तरह से बंद थी, बस में सिर्फ एक ही दरवाजा था जो घटना के समय बंद था। बस के पलटते ही एसी की वजह से उसमें आग लग गई और दरवाजा बंद होने की वजह से लोगों की चीख तक बाहर नहीं निकली और बस में बैठे 27 लोगों की झुलसकर मौत हो गई। पांच लोगों को बचाया गया है।

घटनास्‍थल पर उमड़ी भीड़
घटनास्थल पर काफी संख्या में आसपास के लोग पहुंच गए हैं और सभी घटना को देखकर अपना दुख व्यक्त कर रहे हैं। जिलाधिकारी रमण कुमार व पुलिस अधीक्षक उपेंद्र कुमार शर्मा भी घटनास्थल पर मौजूद हैं और घटना की पूरी जानकारी ले रहे हैं। बस के नीचे एक कार व बाइक के भी दबे होने की सूचना मिल रही है। घायलों के इलाज के लिए मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच और पटना के पीएमसीएच को अलर्ट कर दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here