पिता की मौत के 6 दिन बाद की घटना, चौंकाने वाली है हत्या की वजह

0
7
Madhya Pradesh news in hindi,Indore News,Indore samachar,Madhya Pradesh News,Madhya Pradesh samachar,Madhya Pradesh news in hindi,aajtak live Madhya Pradesh news, Indore News,मध्य प्रदेश न्यूज़,मध्य प्रदेश समाचार,इंदौर न्यूज़,इंदौर समाचार,आजतक लाइव,मध्य प्रदेश न्यूज़ इन हिंदी,आजतक लाइव,आजतक लाइव इ पेपर, dhar news, dhar mp news, dhar mp news in hindi, brother killed brother, crime news, news in hindi, crime news in hindi, mp news in hindi, mp news,Madhya Pradesh, Sardarpur

दो भाइयों ने मिलकर छोटे भाई को मार डाला; घर के सामने तेल छिड़ककर जलाया तो घरवालों ने बुझाया, इसके बाद घसीटते हुए श्मशान ले जाकर फिर जलाया

पिता की मौत के 6 दिन बाद की घटना, चौंकाने वाली है हत्या की वजह

धार (मध्य प्रदेश). जिले के राजोद थाने में मंगलवार सुबह एक व्यक्ति को जिंदा जला देने का मामला सामने आया है। विवाद की शुरुआत पिता की मौत के 6 दिन बाद हो रही भजन संध्या से शुरू हुआ था। तब वहां मौजूद लोगों ने समझाइश से मामला सुलझा दिया, लेकिन रात में फिर हुए विवाद के बाद बड़े भाइयों नंदू और गेंदू ने अपने बच्चों मुकेश-सुरेश के साथ मिलकर छोटे भाई खेमराज (40) पर कुल्हाड़ी से हमला कर दिया। फिर केरोसिन डालकर घर के सामने जला दिया। परिजन ने जैसे-तैसे आग बुझाई, तो घसीटते हुए श्मशान ले गए और वहां आग लगा दी। मामले में पुलिस ने नंदू को हिरासत में लिया है, जबकि 3 आरोपी फरार हैं। ग्रामीणों की सूचना पर डायल-100 की टीम पहुंची तो श्मशान के पास शव जल रहा था। जैसे-तैसे आग बुझाकर अधजला शरीर बरामद किया। प्रधान आरक्षक नानूराम वसुनिया ने बताया- मृतक के पिता की मौत 5 मार्च 2019 को हुई थी। दल्ला का दशाकर्म व अन्य कार्यक्रम बेटे हेमराज के यहां रखा था। कार्यक्रम 14-15 मार्च को था।

यह भी पढ़ें :-  आत्महत्या से पहले दुष्कर्म पीड़िता ने रिकॉर्ड किया बयान, बीएसएफ जवान…

जानें हत्याकांड की पूरी कहानी- रात के विवाद के बाद सुबह फिर लड़े और कर दी हत्या
11 मार्च की रात में उनके घर भजन का कार्यक्रम था। खेमराज के बड़े भाई नंदू ने भी घर के कुछ सदस्यों के साथ भजन गाने-बजाने में हिस्सा लिया। इस पर मृतक खेमराज ने आपत्ति ली और कहा- हमारे पिताजी शांत हो गए हैं। हमें गाना-बजाना अच्छा नहीं लगता और तुम लोग भजन गा रहे हो। इस पर नंदू और खेमराज के बीच कहासुनी हो गई। खेमराज ने लकड़ी से नंदू को मार दिया। लोगों ने मामला शांत कराया। नंदू नाराज होकर घर चला गया।

सुबह परिजन नंदू को समझाकर हेमराज के घर लाए। वहीं पर खेमराज कार्यक्रम की तैयारी के लिए कुल्हाड़ी से लकड़ियां काट रहा था। तब नंदू का बेटा मुकेश आया और खेमराज से कहा- तूने मेरे पिताजी को क्यों मारा। इस पर खेमराज ने कुल्हाड़ी भतीजे मुकेश पर फेंकी। मुकेश ने नीचे झुककर बचाव किया व बचने के लिए घर के अंदर गया। खेमराज ने कुल्हाड़ी उठाई और मारने के लिए दौड़ा। इतने में वहां उपस्थित नंदू, गेंदू, सुरेश ने पत्थर उठाकर खेमराज के मुंह पर दे मारा। वह नीचे गिर गया, फिर चारों ने धारदार हथियार से उसकी गर्दन व पैरों पर वार किया। इससे खेमराज बुरी तरह घायल हो गया। घरवालों व महिलाओं ने बीच-बचाव किया परंतु वे नहीं रुके। इसके बाद घर के अंदर रखा केरोसिन लेकर आए व खेमराज के ऊपर डाल कर आग लगा दी। घर वालों ने पानी डालकर जैसे-तैसे आग बुझाई। आरोपियों ने खेमराज को वहां से उठाया और घसीटते हुए घर के पीछे 500 फीट दूर बने श्मशान घाट पर ले गए और लकड़ियां डालकर केरोसिन डालकर आग लगा दी। वहां किसी को जाने भी नहीं दिया।


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें