ट्रेन का इंजन अगर बंद हो जाए तो हजारों यात्रियों की ‘मौत’ तय है, आखिर क्या वजह है इसके पीछे?

0
98
Latest Weird Stories

जब भी आप ट्रेन में सफर करते हैं या फिर अपने रिश्तेदार को रेलवे स्टेशन पर छोड़ने जाते हैं तो आपने गौर किया होगा कि स्टेशन से सफर के लिए जाने वाला इंजन लगातार चालू रहता है। चाहे कितनी भी देर हो जाए लोको पायलट डीजल इंजन को बंद नहीं करता है। ऐसे में आपके मन में ये सवाल कभी न कभी तो जरूर आया होगा कि ट्रेन के इंजन को बंद क्यों नहीं किया जाता है।

जैसा कि आप जानते होंगे कि भारतीय रेलवे नेटवर्क दुनिया में चौथे स्थान पर आता है। इस रेल नेटवर्क में हर दिन लाखों यात्री यात्रा करते हैं। आपको बता दें कि भारतीय रेलवे में आज भी आधे से ज्यादा इंजन डीजल से चलते हैं।

हालांकि, भारतीय रेलवे अपने नेटवर्क में बिजली से चलने वाले ज्यादा से ज्यादा इंजन लाने की कोशिश में जुटा हुआ है। आने वाले समय में हमें भारतीय रेल में अधिकतर बिजली से चलने वाले इंजन देखने को मिल जाएंगे। अगर डीजल इंजन को बंद कर दिया जाए तो इसके कंप्रेसर पर गलत असर पड़ता है और इसका ब्रेकिंग सिस्टम भी फेल हो सकता है।
aajtaklives hindi news

आपको बता दें कि हर एक डीजल इंजन में एक बैटरी लगी होती है और ये बैटरी तभी चार्ज होती है जब इंजन चालू रहता है अगर ये बैटरी चार्ज न हो तो ट्रेन का लोको मोटिव सिस्टम फेल हो सकता है। रास्ते में लाल बत्ती आ जाने पर या किसी कारणवश ट्रेन के डीजल इंजन को बंद कर दिया जाए तो इंजन को फिर से चालू करने के लिए लगभग 20 मिनट लग जाते हैं। इन सबके अलावा डीजल इंजन को चालू करने के लिए काफी ज्यादा डीजल की जरूरत पड़ती है।

इससे साफ होता कि डीजल की खपत को बचाने के लिए इंजन को बंद नहीं किया जाता है। अब आप जान गए होंगे कि ट्रेन के डीजल इंजन को बंद क्यों नहीं किया जाता है। आपको बता दें कि आने वाले समय में हमें ट्रेन के डीजल इंजन शायद देखने को ही न मिले क्योंकि इनकी जगह बिजली से चलने वाले ज्यादा से ज्यादा इंजन लाने की कोशिश की जा रही है और इससे रेलवे और पर्यावरण दोनों को फायदा होगा।