जियो इफेक्ट : शहर छोड़ने को मजबूर एयरसेल के कर्मचारी, खाने तक के नहीं है पैसे

146
aajtaklives news

नई दिल्ली (टेक डेस्क)। रिलायंस जियो के देश में लॉन्च होने के बाद से कई टेलीकॉम कंपनियों को घाटा उठाना पड़ा है। कई कंपनियां बंद हो गई, कई कंपनियों का अधिग्रहण एयरटेल जैसी बड़ी कंपनियों ने कर लिया, जबकि दो बड़े प्लेयर वोडाफोन और आइडिया को मर्ज होने की नौबत आ गई।

एयरसेल के कर्मचारियों का बुरा हाल

रिलायंस जियो के आने से जिन दो बड़ी कंपनियों को दिवालिया होना पड़ा है और अपनी सर्विस बंद करनी पड़ी है, वो हैं रिलायंस कम्युनिकेशन और एयरसेल। इन कंपनियों के सर्विस बंद होने का असर इनके यूजर्स के अलावा इन कंपनियों में काम कर रहे कर्मचारियों पर पड़ा है। कई कर्मचारियों को अपनी नौकरी गवानी पड़ी है। कई कर्मचारी ऐसे हैं, जिनके पास गुजारे के लिए पैसे भी नहीं हैं। एयरसेल में काम कर रहे ये कर्मचारी तो अब शहर छोड़ने पर मजबूर हो गए हैं।
Advertisement





नहीं है गुजारे के पैसे

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, दिवालियो घोषित हो चुकी कंपनी एयरसेल के 3,000 ऐसे कर्मचारी हैं, जिनको बीते तीन महीने से सैलरी नहीं मिली है। इन कर्मचारियों के पास ना तो कोई काम है, ना ही गुजारे के लिए पैसा बचा है। ये कर्मचारी एक-दूसरे के साथ रोजाना वक्त गुजारते हैं, दूसरी कंपनियों में इंटरव्यू के लिए एक-दूसरे की मदद भी करते हैं।

कम सैलरी पर काम करने को हैं मजबूर

एयरसेल में काम कर रहे ज्यादातर कर्मचारी अन्य कंपनियों में करीब 25 प्रतिशत कम सैलरी पर काम करने के लिए मजबूर हैं। कंपनी के कर्मचारियों को बिना सैलरी के और कम सैलरी के शहर में रहना दूभर हो गया है। कंपनी के ज्यादातर ऑफिस बंद पड़ें हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एयरसेल पर करीब 50,000 करोड़ रुपये का कर्ज है।
Advertisement





एयरसेल की सफाई

कर्मचारियों को तीन महीने से सैलरी नहीं मिलने के सवाल पर कंपनी ने सफाई दी है कि पेरोल डिपार्टमेंट में स्टॉफ की कमी के चलते कर्मचारियों को सैलरी नहीं दे पा रहे हैं। कंपनी ने कहा कि कर्मचारियों को इस संबंध में 16 मई को एक लेटर भी भेजा गया है। कुछ कर्मचारी सैलरी की आस में अभी तक कपंनी छोड़ के नहीं गए हैं। कुछ कर्मचारी तो ये तक कह रहे हैं कि कंपनी उन्हें कम से कम फूड कूपन दें, ताकि वो इन कूपन से खाने-पीने का सामान खरीद सकें।