चश्मदीद ने कहाः कार में 6-7 लोग आए थे, इस बार तो मां को ही ले गए

60
Chaibasa Jharkhand news, Idol stole news

चाईबासा (झारखंड)। केरा मंदिर से मां की प्राचीन प्रतिमा चोरी की खबर सुनते ही कई लोग फफक-फफक कर रोने लगे। सुबह को मंदिर परिसर में हजारों की भीड़ जुट गई। लोगों ने कहा कि 6 महीने में दूसरी बार चोरी की घटना हुई। 17 जून 2018 को केरा मंदिर का ताला तोड़कर दान पेटी की चोरी हुई थी। उस समय पुलिस ने न ही प्रबंधन समिति ने घटना को गंभीरता से लिया। नतीजा ये रहा कि अब छह महीने के अंदर ही मां की प्रतिमा ही चोरी हो गई। इससे पांच साल पहले मुकुट की चोरी हुई थी।

मंदिर के पुजारी दुर्गाचरण के प्रति गुस्सा दिखा। डीएसपी सकलदेव राम ने भी पुजारी को फटकार लगाई। आसपास के गांवों के कई घरों में चूल्हे तक नहीं जले। दिनभर होटल तक बंद रहे। चक्रधरपुर व आसपास के इलाके में 6 महीने के अंतराल में 27 मंदिरों में चोरी व अन्य छेड़छाड़ की घटनाएं हो चुकी है। इसमें एक में भी पुलिस सफल नहीं रही। अंतत: केरा मंदिर में प्रतिमा चोरी की घटना हो गई।

आंखोंदेखी: मैंने रात को देखा, कार में आए थे छह-सात लोग: राधिका पाठक
राधिका पाठक ने बताया- मैं मंदिर के सामने ही रहती हूं। आधी रात करीब 12 बजे एक सफेद रंग की कार मंदिर के पास पहुंची। मैंने पहले ध्यान नहीं दिया, लेकिन जब देर तक कार खड़ी रही तो देखा कि 6 लोग खड़े हैं। इस बार तो वो लोग मां को ही उठा ले गए।

राजा लोकनाथ सिंह ने बनवाया था मंदिर
केरा रियासत के राजा ठाकुर लोकनाथ सिंह देव ने केरा भगवती मंदिर का निर्माण 200 साल पहले कराया था। इससे पहले मां की प्रतिमा खुले में एक पेड़ की नीचे थी। राजपरिवार के लोग बताते हैं कि मां की प्रतिमा 300 साल पुरानी है। कामरूप कामाख्या से मां की प्रतिमा किसी सिद्ध साधु ने लाया था।

ये घृणित कृत्य है, दोषी को सजा दे पुलिस : काेड़ा
पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा घटना की जानकारी पाकर रांची से सीधे मंदिर पहुंचे। उन्होंने घटना की निंदा की। केरा राजपरिवार सदस्यों मिले और पुजारी से भी जानकारी ली। कोड़ा ने कहा कि आस्था पर आघात कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

आईटी टीम को मिला सुराग, डॉग स्क्वॉयड फेल
आइटी की तकनीकी सेल ने महत्वपूर्ण सुराग मिले हैं, लेकिन ये अभी जांच का विषय है। डीएसपी ने तकनीकी सेल से घटना की रात को यूज किए मंदिर के आसपास के सारे मोबाइल नंबर की जांच की है। इसके अलावे आनंदपुर से आयी सीआरपीएफ की खोजी कुत्ता बॉस ने मंदिर में लोगों के घुस जाने के कारण कोई खास सुराग नहीं पाया।