एक रस्म को निभाने 5 की जगह 60 लोगों को लेकर पहुंचा था दूल्हा

20
aajtaklives news, news in hindi, hindi news, gujrat new: Just after marriage due to a ritual matter reached to divorce, groom returns without bride,Gondal, Gujarat, Kheda

7 फेरों के बाद रस्म को लेकर बिगड़ी बात, तलाक का मंच बना मंडप, फेरे के 1 घंटे बाद ही बिना दुल्हन बारात लेकर लौटा NRI दूल्हा

एक रस्म को निभाने 5 की जगह 60 लोगों को लेकर पहुंचा था दूल्हा

गोंडल (गुजरात). कोर्ट मैरिज के 2 महीने बाद शुक्रवार को परिजनों की मौजूदगी में परिणय सूत्र में बंधे नवदंपत्ति के विवाह का मंडप इनके विवाह टूटने का मंच बन गया। हुआ यूं कि मंगलफेरों के बाद दूल्हा-दुल्हन को लेकर हुए अनुष्ठान के दौरान विवाद हो गया। बात इतनी बढ़ गई कि बात तलाक तक पहुंच गई। दूल्हे राजा-बाराती दुल्हन लिए बिना रवाना हो गए। अब कोर्ट से विविधवत तलाक लेने की भी प्रक्रिया की जाएगी।

एफबी पर मिले थे, कोर्ट मैरिज के दो महीने बाद लिए थे फेरे

दूल्हा एनआरआई है। मध्य गुजरात के खेडा में रहता है। एफबी पर वह गोंडल निवासी लड़की के संपर्क में आए। इसके बाद दोनों करीब आ गए। विवाह की बात चली। सबसे पहले कोर्ट मैरिज की। दो महीने बाद 25 जनवरी को बारात लेकर दूल्हा गोंडल पहुंचा। कन्यापक्ष ने दूल्हा और बारातियों का गर्मजोशी से स्वागत किया।

यह भी पढ़ें : तंत्र मंत्र के चक्‍कर में 6 साल के बालक की हत्या,…

कुंवर कलेउ पर बिगड़ी बात

प्रीतिभोज के बाद फेरे हुए। विदाई से पहले पंचोला अनुष्ठान (कुंवर कलेऊ जैसी प्रथा) की बारी आई। कन्यापक्ष इसकी तैयारी में लग गया। परंपरा के अनुसार वर-कन्या पक्ष के पांच-पांच लोग रिवाज अनुसार मिष्ठान एक थाली में रख कर दूल्हा-दुल्हन के साथ भोजन करते हैं। दूल्हे के पक्ष की ओर से कहा गया- हमारी ओर से पांच नहीं 25 लोग भोजन लेंगे। रिवाज के अनुसार पांच लोगों को ही इसकी इजाजत होती है। कन्यापक्ष ने 25 व्यक्तियों के प्रस्ताव को मान लिया। जब प्रथा शुरू हुई तो वर पक्ष की ओर से 25 की जगह 60 लोग पहुंच गए। इस पर कन्यापक्ष ने कहा- 5 की जगह 25 की बात तो कुछ हद तक ठी थी लेकिन 60 का आना पूरी तरह गलत है। इसको लेकर दोनों पक्षों के बीच विवाद हो गया। बात इतनी बिगड़ी कि बमुश्किल एक घंटे पहले 7 फेरे लेने वाले नवदंपत्ति के तलाक लेने तक बात पहुंच गई।

पुलिस पहुंची, दोनों पक्षों ने वकील भी बुला लिए

दोनों पक्षों में विवाद चल रहा था, तभी किसी ने पुलिस को सूचना दे दी। गोंडल थाने की टीम मौके पर पहुंच गई। दोनों पक्षों ने अपने-अपने वकील भी बुला लिए। तय हुआ कि कन्या को दिये गए सभी उपहार वापस कन्यापक्ष करेगा। दुल्हन को भी नहीं भेजा जाएगा। आगामी दिनों में दोनों कोर्ट से विधिवत तलाक लेंगे। दोनों पक्षों की सहमति के बाद दूल्हाराजा माता-पिता और दोस्तों के साथ शुक्रवार को ही रवाना हो गया।

यह भी पढ़ें : रोहिंग्या मुसलमानों की हैवानियत आंखों देखी: नर पिशाच के रूप में…

यह भी पढ़ें : पहले पिता ने दोस्तों को गिफ्ट में परोसा बेटी का जिस्म,…

यह भी पढ़ें : बरेली: 10 दिन तक 7वीं की छात्रा से किया रेप, फिर उसे बेच दिया


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें