इनके कहने पर अंतिम यात्रा के बीच में ही मोदी को बैठना पड़ा वापस कार में

46
modi decision to walk at vajpayees funeral surprised all,अटलजी की अंतिम यात्रा

न्यूज डेस्क। भारत रत्न अटलजी की अंतिम यात्रा में पीएम मोदी करीब 4 किमी पैदल चले। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीजेपी हेडक्वार्टर में ही स्पेशल प्रोटेक्शन फोर्स (SPG) को यह बताया गया कि पीएम मोदी पैदल ही स्मृति वन तक जाएंगे। इसके तुरंत बाद दिल्ली पुलिस के गुप्तचर तैनात कर दिए गए। सेना, और अर्द्धसैनिक बलों की टीम ने मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को को अपने घेरे में ले लिया।

साथ ही खुफिया एजेंसी (IB) ने दिल्ली पुलिस के चुने हुए जवानों को सादी वर्दी और सफेद टोपी में कार्यकर्ता के तौर पर भीड़ में शामिल कर दिया। SPG की एक स्पेशल टीम ने दोनों नेताओं को घेरा बनाकर उसके अंदर ले लिया। वहीं दिल्ली पुलिस के जो जवान सादी वर्दी में शामिल थे, उन्होंने एसपीजी के बाहर एक मानव श्रंखला बना ली। इस श्रंखला के अंदर मोदी और शाह के अलावा एसपीजी के जवान थे। SPG ने स्मृति वन स्थल में भी सेना, नेवी और वायुसेना के जवानों को तैनात कर दिया था।

50 शार्पशूटर को तैनात किया गया था
बहादुरशाह जफर मार्ग और आसपास के इलाके में 50 शार्प शूटर तैनात किए गए थे। शहीदी पार्क के पास एसपीजी ने कुछ मिनटों के लिए पीएम को गाड़ी के अंदर बैठा लिया। हालांकि दरियागंज सिग्नल पर मोदी दोबारा गाड़ी से बाहर आ गए थे।

कैसी थी राष्ट्रीय स्मृति स्थल की सुरक्षा
– पूरे राष्ट्रीय स्मृति स्थल की सुरक्षा को 5 भागों में बांटा गया था।
– डीसीपी रैंक के अफसरों को इसकी जिम्मेदारी दी गई थी।
– 12 जोन बनाए गए थे। इनमें एसीपी रैंक के अफसर तैनात थे।
– हर जोन को 65 सेक्टर में बांटा गया था। इनकी जिम्मेदारी इंस्पेक्टरों को दी गई थी।
– कुल 14 एसीपी, 67 इंस्पेक्टर, 233 उच्च और 1084 उसके नीचे का स्टाफ सुरक्षा में लगाया गया था।
– दिल्ली पुलिस के अलावा अर्द्धसैनिक बलों और रिजर्व पुलिस की 9 कंपनियों को भी सुरक्षा में तैनात किया गया था।

कहां-कितने जवाब तैनात थे
– एनएसजी, एसपीजी और स्वाट टीम के 700 कमांडो सुरक्षा में तैनात थे।
– भीड़भाड़ वाले इलाके में 30 टीमें तैनात थीं।
– भीड़ के साथ 650 खुफिया जवान शामिल थे।
– पूरे रास्ते में 600 सीसीटीवी कैमेर लगाए गए थे।
– बीजेपी हेडक्वार्टर से लेकर स्मृतिवन स्थल तक 3200 सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए थे।
– इसके अलावा हर जगह शार्प शूटर भी तैनात थे।