अटलजी की प्रतिमा पर बिना फूल चढ़ाए चले गए सिद्धू

50
navjot singh sidhu not tribute to atalji,navjot sidhu,atal bihari,bharat ratna,imran khan,darbari lal,india,pakistan,amritsar,punjab,wagha,lok sabha

अमृतसर।देश पूर्व प्रधानमंत्री, भारत रत्न स्व. अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि दे रहा है लेकिन शुक्रवार को यहां एक प्रोग्राम से लोकल बॉडीज मिनिस्टर नवजोत सिद्धू उन्हें श्रद्धांजलि दिए बगैर लौट गए। वह भी तब जब वाजपेयी की प्रतिमा महज 8 फीट दूर, स्टेज पर ही रखी थी। शहीद मदनलाल ढींगरा के बलिदान दिवस पर, शुक्रवार को टाउन हॉल स्थित उनके बुत पर पूर्व सेहत मंत्री लक्ष्मीकांता चावला ने श्रद्धांजलि प्रोग्राम रखा था।

इमरान के लिए पश्मीना शॉल ले जाने का बखान, वाघा पहुंचते ही पढ़े शान में कसीदे

– बुत के पास लगाए पंडाल में चावला ने स्वर्गीय अटलजी की प्रतिमा भी रखी ताकि उन्हें भी श्रद्धांजलि दे सकें। सिद्धू सुबह 9 बजे टाउन हॉल पहुंचे और शहीद ढींगरा के बुत पर पुष्प चढ़ाए। इसके बाद सिद्धू ने पंडाल में खड़ीं चावला के पास जाकर उनका आशीर्वाद लिया मगर 8 फीट दूर रखी अटलजी की प्रतिमा को बिना नमन किए लौट गए।

– गौरतलब है कि फरवरी 2007 में अमृतसर सीट पर लोकसभा उपचुनाव में सिद्धू के लिए प्रचार करने वाजपेयी आए थे। तब सिद्धू खुद को अटलजी का सिपाही बताते थे।

-होटल में पत्रकारों के सामने सिद्धू खुद के पाकिस्तान जाने और वहां के भावी प्रधानमंत्री पूर्व क्रिकेटर इमरान खान के लिए बतौर तोहफा पश्मीना शॉल ले जाने का बखान करते रहे। दोपहर 3 बजे अटारी बॉर्डर पार कर वाघा में कदम रखते ही सिद्धू ने शायरी करते हुए इमरान खान की शान में कसीदे पढ़ डाले।

– पूर्व डिप्टी स्पीकर बीर दविंदर ने कहा, अटलजी के जाने से पूरा देश शोक में है और राष्ट्रीय शोक में सेलिब्रेशन वाले कार्यक्रम नहीं होते। आज जब अटलजी का संस्कार हो रहा था, तो सिद्धू को दिखावा करने से बचना चाहिए था।

– पंजाब के पूर्व डिप्टी स्पीकर प्रो. दरबारी लाल ने कहा, राजकीय शोक में कुछ जगह कार्यक्रम स्थगित नहीं किए जा सकते लेकिन जिन्हें टाला जा सकता है, वो कार्यक्रम जरूर स्थगित कर देने चाहिए।