वाइफ की मौत के बाद हसबैंड ने बनाई ऐसी मशीन, जो सिर्फ 30 सेकंड में सांस के जरिए बता देगी कैंसर है या नहीं, हर साल बचेगी 10 हजार जिंदगियां

2
282
new breath test will reveal cancer

खबर जरा हटके डेस्क.कैम्ब्रिज के एक साइंटिस्ट ने कैंसर पता करने की सबसे प्रभावी और सस्ती मशीन बनाने का दावा किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक इसे बनाने वाले डॉक्टर बिली बोयल ने कहा कि अब सांस के टेस्ट (Breath Test) के जरिए ही पता लगाया जा सकेगा कि व्यक्ति को कैंसर है या नहीं। इतना ही नहीं, इस मशीन से होने वाले टेस्ट कैंसर में होने वाली जांच से दस गुना कम के होंगे, जिससे सालाना इन जांचों पर खर्च होने वाले 2,223 करोड़ रु बचाए जा सकेंगे।

10 गुना बढ़ जाएगी जीने की संभावना…

बिली ने आगे कहा कि इस मशीन के जरिए कैंसर का बहुत पहले ही पता चल जाएगा जिससे व्यक्ति के जीवित रहने की संभावना 10 गुना तक बढ़ जाएगी। उसे समय पर इलाज उपलब्ध कराया जा सकेगा।

ऐसे काम करती है मशीन
– इसके लिए एक खास तरह का ब्रेथ एनालाइजर बनाया गया है, जिसमें हर टेस्ट के दौरान एक नैनो चिप फिट की जाएगी। ये नैनो छिप सांस से के जरिए कैंसर संबंधित कैमिकल्स की पहचान कर लेगी। इसके बाद ये जानकारी कम्प्यूटर पर स्पष्ट रूप से देखी जा सकेगी। ये सिर्फ 30 सेकंड की प्रक्रिया होगी, जिससे कैंसर के अलावा और भी कई गंभीर बीमारियों का पहले ही पता चल जाएगा और इनकी रोकथाम के लिए जरूरी कदम उठाए जा सकेंगे।

वाइफ की मौत के बाद बनाई डिवाइस
– 2014 में डॉ. बोयल की वाइफ की कोलोन कैंसर से मौत हो गई थी। उनकी वाइफ महज 36 साल की थीं, जो बोयल के अलावा 5 साल के जुड़वां बच्चों को पीछे छोड़ गईं। इसके बाद डॉ. बोयल ने इस मशीन को बनाने का सोचा, जिससे लोगों को जल्दी कैंसर का ट्रीटमेंट मिले।

2015 से चल रहा काम
– डॉ. बोयल की इस खोज पर 2015 से काम जारी है और ये ब्रिटेन के कई हॉस्पिटल में टेस्ट के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके नतीजे देखते हुए इसमें और सुधार किया जा रहा है। अगर सबकुछ सही रहता है तो ये आधुनिक मशीन विश्वस्तर पर उपलब्ध कराई जाएगी।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here