महिलाओं की योनी में क्यों लगानी पड़ती है जाली!

0
591
aajtaklives news, hindi news, health news in hindi,health solution in hindi,18plus news, पाठकों की समस्याएं, women,women health,vaginal mesh,vaginal mesh for bladder,bladder problems

महिलाओं की योनी में क्यों लगानी पड़ती है जाली! क्या होते हैं नुकसान और क्या हैं विकल्प

रेजिना स्टीफर्सन को रेक्टोसेले के लिए सर्जरी की जरूरत थी, जो मलाशय और योनि के बीच की दीवार का एक प्रोलैप्स है.

रेजिना स्टीफर्सन को रेक्टोसेले के लिए सर्जरी की जरूरत थी, जो मलाशय और योनि के बीच की दीवार का एक प्रोलैप्स है. उसके सर्जन ने कहा कि उसके मूत्राशय यानी ब्लैडर को भी ऊपर उठाने की जरूरत है और उन्होंने ऐसा किया भी, जिसके लिए उन्होंने योनि जाल या वजाइनल मेश का सहारा लिया. आसान शब्दों में कहें तो मूत्राशय को मजबूत करने के लिए एक सर्जिकल जाल का इस्तेमाल किया गया.

48 साल की उम्र में स्टीफर्सन ने 2010 में यह सर्जरी कराई थी. उन्होंने बताया कि वह दो साल तक डिएबिलीटी लक्षणों का सामना करती रहीं. एक सक्रिय महिला, जो घोड़ों की सवारी करती थी, स्टीफर्सन ने कहा कि उसे सर्जरी के बाद लगातार दर्द, चलने में तकलीफ, बुखार चढ़ना-उतरना और वजन कम होना, मतली और सुस्ती जैसी समस्याएं बनी रहीं.

अगस्त 2012 में स्टीफ़र्सन और उनकी बेटी ने योनि जाल यानी Vaginal Mesh से संबंधित एक विज्ञापन देखा, जिसमें 10 लक्षणों का उल्लेख किया गया था और कहा था कि यदि आपके पास एक वकील को बुलाने के लिए है.

यह भी पढ़ें : पति जबरन करता था दोस्तों के साथ सोने को मजबूर

“मेरी बेटी ने कहा,” अरे मां, आपके पास उनमें से हर लक्षण है.”

वजाइनल मेश या यौनी जाली या नेट का इस्तेमाल कमजोर पेल्विक टिशू को बेहतर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. जिसे योनी में लगाया जाता है. इसकी शुरुआत 1998 में हुई. यह युरिनरी इंकॉन्टिनेंस स्ट्रेस का सामना कर रही महिलाओं के लिए सुरक्षित और आसान विकलप साबित हुआ.

लेकिन समय के साथ-साथ कॉम्लिकेशन्स सामने आने लगे. इन समस्याओं में क्रोनिक इंफ्लेमेशन भी शामिल रहा. इस जाल के सिकुड जाने, टिशू में दर्द पैदा करने, संक्रमण और योनि की दीवार के माध्यम से फलाव की समस्याएं सामने आने लगीं.

कैटरीना स्प्रेडली, तब 49, अप्रैल 2008 में एक हिस्टेरेक्टॉमी लेने वाली थीं. उन्होंने कहा कि उन्होंने अपने चिकित्सक से कहा कि उन्हें मूत्र संबंधी समस्याएं भी हैं. उन्होंने बताया कि हर बार जब वह हंसती, खांसती या छींकती थीं, तो मूत्र रिसाव होता था. ऐसा अक्सर होता था कि वह सैनिटरी पैड लगाती थीं. उन्होंने एक मूत्र रोग विशेषज्ञ से परामर्श लिया और तय हुआ कि वे हिस्टेरेक्टॉमी के साथ ही योनि जाल भी लगा दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें : रात में 12 बजे के बाद नहीं बनाये शारीरिक सम्बन्ध वरना….

स्पैडले को एंडोमेट्रियोसिस (endometriosis) भी था. यह एक स्थिति है जो गर्भाशय के बाहर एंडोमेट्रियल ऊतक की उपस्थिति के परिणामस्वरूप होती है, जिसमें बहुत अधिक दर्द (दर्दनाक अवधि, भारी रक्तस्राव, संभोग के साथ दर्द) होता है. यही वजह है कि सर्जरी के बाद उन्हें पेट में दर्द और ऐंठन होने लगी.

2011 में, अपने ट्रक-ड्राइविंग लाइसेंस के लिए उन्होंने जो मूत्र परीक्षण कराया, उसमें खून दिखा. बाद में, अपने पति के साथ यौन संबंध बनाते समय, उनके लिंग में जख्म हो गए. उसने अपने पति के साथ एक चिकित्सक से मुलाकात की ताकि इस समस्या पर बात की जा सके.

इनके साथ ही साथ और भी बहुत सी महिलाओं को इस तरह के मामलों का सामना करना पड़ा. यूसीएलए स्कूल ऑफ मेडेसिन में यूरोलॉजी और पेल्विक रिकॉनस्ट्रक्शन प्रोफेसर का कहना है कि दुनियभर में तीन से 4 मिलियन महिलाएं योनी में जाली लगवाती हैं. इनमें से करीब करीब 5 फीसदी को समस्याओं का सामना करना पड़ता है यानी करीब करीब 150,000 to 200,000 महिलाओं को समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

यह भी पढ़ें : शारीरिक सम्बन्ध के दौरान असहनीय दर्द के लिए ये चीजें भी…

लेकिन जब आपको जटिलताएं होती हैं, तो इसका इलाज करना मुश्किल होता है,” रेज ने कहा.

जटिलताओं के बीच: पुरानी पेल्विक दर्द, योनि में मेष का क्षरण, असंयम, रुकावट, कमर, कूल्हे और पैर में दर्द और संभोग के दौरान दर्द. राज भी अपने अनुभव के आधार पर, मानते हैं कि 20 से 30 प्रतिशत जटिलताओं को वह “ल्यूपस-प्रकार” कहते हैं, जिससे बहती नाक, मांसपेशियों में दर्द, कोहरा और सुस्ती होती है. वह इस तथ्य पर आधारित है कि, हटाने के बाद, रोगी इन जटिलताओं से ठीक हो जाते हैं.

“यदि आप जाली को हटाते हैं, और ल्यूपस-प्रकार के लक्षण गायब हो जाते हैं, तो जाली जिम्मेदार है,” रेज ने कहा.

और भी हैं विकल्प: 

इसी तरह के कई मामले और समस्याएं सामने आने के बाद दूसरे विकल्पो के बारे में सोचा गया.

– मार्गोलिस ने कहा कि केगेल व्यायाम और निराशावादी के रूप में निरर्थक विकल्प हैं, जो तनाव असंयम के साथ मदद कर सकते हैं. रेज और मारगोलिस अपने रोगियों से कार्बनिक, जैविक सामग्री जैसे ऊतक या टेंडन से बने स्लिंग करते हैं.

– मार्गोलिस ने यह कहा कि बर्च प्रोसेड्यूर, एक शल्य प्रक्रिया है जिसमें मूत्राशय की नेक को स्नायुबंधन से सीवन के साथ निलंबित कर दिया जाता है, लेकिन याद रहे यह भी पूरी तरह सफल नहीं रहता.

योनि जाल को अब ऑस्ट्रेलिया, आयरलैंड और स्कॉटलैंड में अधिक इस्तेमाल नहीं किया जा रहा. जब इससे दीर्घकालिक क्षति का आकलन किया गया तो जुलाई में, यूनाइटेड किंगडम ने एक अस्थायी प्रतिबंध लगा दिया. (दी वॉशिग्टन पोस्ट से साभार.)

यह भी पढ़ें : पुरुषों के लिए कंडोम रखने का झंझट होगा दूर, बाजार में…

यह भी पढ़ें : महिलाओं की नाभि में छिपा है सैक्स का गहरा रहस्य

यह भी पढ़ें : इस गाँव में इतने शर्मनाक तरीके से मनायी जाती है सुहागरात

यह भी पढ़ें : क्या आपने किया है कभी एनल संभोग ?

यह भी पढ़ें : अंधविश्वास के नाम पर तांत्रिक ने किया 120 महिलाओं से रेप


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें