धर्म और विज्ञान के लिए आज भी पहेली है ये मंदिर, हवा में झूलता है एक खंभा…

0
436
temple news in aajtaklives

दोस्तों आप सब तो जानते हैं की भारत का इतिहास बहुत बड़ा है इसे कुछ शब्दों या पन्नों में समेटा नहीं जा सकता. वैसे भी आपको पता ही है भारत का इतिहास बहुत ही रहस्यमयी है कब क्या सामने आ जाये कोई नहीं जानता..? आज हम आपके लिए एक ऐसा वीडयो लेकर आये हैं जिसे जानकर आपको विश्वास नहीं होगा की आखिर ऐसा कैसे हो सकता है..? लेकिन आपकी जानकारी के लये बता दें कि जो भी आप वीडियो में देखने वालें वो एक दम सच है.
Advertisement





हवा में झूलते पिलर की वजह से…

गौरतलब है कि 16वीं सदी में बना लेपाक्षी मंदिर हवा में झूलते पिलर की वजह से दुनिया भर में मशहूर है. इस मंदिर में बहुत सारे स्तंभ है, लेकिन उनमें से एक स्तंभ ऐसा भी है जो हवा में लटका हुआ है. यह स्तंभ जमीन को नहीं छूता और बिना किसी सहारे के खड़ा है. लोग इस बात की पुष्टि करने के लिए इस स्तंभ के नीचे से कपड़ा व अन्य चीजें निकालते हैं. स्थानीय लोगों का कहना है है कि ऐसा करना शुभ माना गया है.
temple news in aajtaklives
Advertisement





कहा जाता है कि वनवास के दौरान भगवान श्रीराम, लक्ष्मण और माता सीता यहां आए थे. जब रावण माता सीता का अपहरण करके अपने साथ लंका ले जा रहा था, तभी गिद्धराज जटायु ने रावण के साथ युद्ध किया. युद्ध के दौरान घायल होकर जटायु इसी स्थान पर गिर गए थे और जब माता सीता की तलाश में श्रीराम यहां पहुंचे तो उन्होंने ‘ले पाक्षी’ कहते हुए जटायु को अपने गले से लगा लिया. संभवतः इसी कारण तब से इस स्थान का नाम लेपाक्षी पड़ा.
temple news in aajtaklives
मुख्यरूप से “ले पाक्षी” एक तेलुगू शब्द है जिसका अर्थ ‘उठो पक्षी’ है. इस मंदिर के रहस्यों को जानने के लिए अंग्रेज इसे किसी और स्थान पर ले जाना चाहते थे. इस मंदिर के रहस्यों को देखते हुए एक इंजीनियर ने मंदिर को तोड़ने का प्रयास भी किया था. इतिहासकारों का मानना है कि इस मंदिर का निर्माण सन् 1583 में विजयनगर के राजा के लिए काम करने वाले दो भाईयों (विरुपन्ना और वीरन्ना) ने बनवाया था

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here