इस अभिनेत्री ने कहा- लड़कियां खुद करवाती है रेप, खुद भी प्रोड्यूसर के साथ गुजारी रातें तब मिला था काम

0
1073
aajtaklives hindi news

अभिनेत्री टिस्का चोपड़ा का कहना है कि यौन उत्पीड़न के मामले में महिलाएं भी बराबर की दोषी होती हैं लेकिन वो सारा का सारा अपराध पुरुषों के सिर रख देती हैं। उनका कहना है कि महिलाएं कुछ ज्यादा ही आरोप लगाती हैं। टिस्का का कहना है कि महिलाएं खुद ही अपने आप को शोषण की असुरक्षित स्थिति में ले जाती हैं, तो वो भी शोषण की दोषी हैं।

इन दिनों सोशल मीडिया पर #metoo के नाम से सोशल मीडिया पर एक अभियान चल रहा है जिसमें महिलाएं अपने साथ हुए यौन शोषण के बारे में बता रहीं हैं। इसी में आम लड़कियों के साथ कई जानी-मानी हस्तियां भी अपनी बात रख रही हैं। इसी पर टिस्का ने अपनी बात कही है।
Advertisement





टिस्का चोपड़ा ने कहा कि ‘ये महिलाएं होटल के कमरों में क्यों जाती हैं? इन्हें खुद की सुरक्षा का खयाल नहीं? बतौर एक महिला मैं तो कहूंगी पहले खुद की रक्षा करो।

टिस्का ने एक ट्वीट में लिखा था, ‘एक अस्थायी ना, विनम्र ना और ना का मतलब ‘आशंका’ हो सकती है। एक खराब ना का अर्थ हां है। मुझ पर थोड़ा और जोर दो मैं मान जाऊंगी।

अपने इस ट्वीट के बाद टिस्का सोशल मीडिया पर ट्रोल हो गईं। उनके इस ट्वीट पर कई यूजर्स ने उनको लताड़ लगा दी।
यूजर्स ने पूछा सुरक्षित जगह कहा है?

एक यूजर ने कहा, सुरक्ष‍ित जगह कहां है? ऑफिस में?, कार में? या घर में? उत्पीड़न क‍हीं भी हो सकता है। कई लड़कियों ने भी सोशल मीडिया पर टिस्का के इस बयान को असंवेदनशील कहा। एक यूजर ने लिखा कि फिल्म इंडस्ट्री में लड़कियों को क्या देखना पड़ता है, इस पर टिस्का खुद सच्चाई बता चुकी हैं और फिर भी वो ऐसा कह रही हैं तो ये दुखद है।

टिस्का खुद भी पहुंची थी प्रोड्यूसर के कमरे तक
टिस्का चोपड़ा ने भले ही अब कमरे तक जाने वाली लड़कियों को बराबर का दोषी ठहरा दिया हो लेकिन बीते साल उन्होंने खुलासा किया था कि वो एक फिल्म की शूटिंग के दौरान प्रोड्यूसर के कमरे में गईं थी।वहां उन्होंने प्रोड्यूसर के साथ वो सब किया जो उसने चाहा।