वाइफ डर न जाए, इसलिए शख्स ने उसे भी नहीं दिखाई अपनी ऐसी हालत, भयानक एक्सीडेंट के बाद भी शख्स को नहीं हुआ दर्द

0
42
a man survived to live after impaled a 20 kg spear in body

खबर जरा हटके.अमेरिका के इडाहो स्टेट में हुए एक हादसे में 43 साल के शख्स की जान बाल-बाल बच गई। उस शख्स के पेट में करीब 20 किलो की नुकीली रॉड घुस गई थी। हालांकि इसके बाद भी उसे बचा लिया गया। घायल शख्स का नाम जस्टिन फर्थ है, जो कि हादसे के वक्त एक बिल्डिंग में जाली लगाने का काम कर रहा था। जस्टिन की हालत इतनी खराब थी कि हादसे के बाद उसने वाइफ को भी वहां नहीं आने दिया। इसके बाद उसे हेलिकॉप्टर से हॉस्पिटल ले जाया गया।

नहीं हुआ जरा सा भी दर्द

– हादसे के दौरान लोहे की रॉड पीछे से उसके शरीर में घुसी और पेट के बाहर निकल आई। इस दौरान पीड़ित को थोड़ा सा भी दर्द नहीं हुआ। उसका कहना है कि मुझे बस इतना सा लगा कि कोई चीज मुझे आकर लगी थी।
– सबसे खास बात ये रही कि रॉड की वजह से धमनी, रीढ़ की हड्डी और किडनी तक खून पहुंचाने वाली नसों को जरा भी नुकसान नहीं पहुंचा। जबकि वो इन सब से सिर्फ कुछ सेंटीमीटर की दूरी पर ही लगी थी।
– हादसे के तुरंत बाद फर्थ के साथी वर्कर्स ने 911 पर कॉल किया और फिर कटर की मदद से रॉड के उस हिस्से को काट दिया, जो अब भी मशीन से जुड़ा हुआ था।
– हादसे के बाद जस्टिन की हालत इतनी ज्यादा खराब थी, कि उसने अपनी वाइफ को भी खुद को नहीं देखने दिया। घायल शख्स दो बच्चों का पिता है।

– इसके बाद उसे पास के हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां ऑपरेशन के बाद उसकी जान बचा ली गई। उम्मीद है कि उसे दो हफ्ते बाद हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया जाएगा।

अपने पास ही रखना चाहता है वो लोहे का टुकड़ा

– एक न्यूज चैनल से बात करते हुए फर्थ ने कहा, ‘मुझे याद नहीं कि चोट लगने के बाद मेरे पेट से खून निकला था, हां बस पीछे की ओर मुझे थोड़ी सी नमी जरूर महसूस हुई थी।’ उसका कहना है कि वो उस लोहे के नुकीले टुकड़े को अपने पास ही रखना चाहता है।
– मुझे तेजी से खून निकलने पर लगने वाली गर्मी जैसा भी कुछ महसूस नहीं हुआ। हादसे के बाद पीड़ित को पोर्टनीफ मेडिकल सेंटर ले जाया गया, जहां चार घंटे चले ऑपरेशन के बाद वो रॉड बाहर निकाल ली गई, साथ ही आंतरिक घावों पर टांके लगा दिए गए।
– जस्टिन का इलाज कर रही डॉक्टर्स की टीम में से एक डॉ टेरेंस रेजर ने बताया, ‘ऑब्जेक्ट रीढ़ की हड्डी, धमनी और किडनी को ब्लेडर से जोड़ने वाली नस पर लगने से सिर्फ कुछ सेंटीमीटर दूर रह गया।’ डॉक्टर्स के मुताबिक जल्द ही वो पूरी तरह ठीक हो जाएगा।
– फर्थ ने कहा, ‘मुझे बचाने में मदद करने वाले डॉक्टर्स और बाकी सब लोगों को मैं बहुत बड़ा शुक्रिया कहना चाहूंगा। अगर वो रॉड थोड़ा सा भी इधर-उधर होती तो मैं वहीं पर मर गया होता। वो मेरी खोपड़ी भी तोड़ सकती थी, या मुझे लकवा भी लग सकता था।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here