मध्यकाल में दोषी लोगों को सजा ऐसी कि रूह कांप जाए!

0
287
10 Dangerous Torture, 10 Most Cruel Torture, punishment, Torture,cruel punishment

आज जहां ज्यादातर देशों में अपराधी को सजा देने के लिए उसे जेल में डाल दिया जाता है या हत्या जैसे अपराध के लिए फांसी दे दी जाती है, तो वहीं पुराने समय में अपराधी और दुश्मनों को बहुत ही दर्दनाक मौत की सजा दी जाती थी. ये ऐसे तरीके थे जिसके बारे में जानकर भी दिल दहला जाता है. अलग-अलग देशों में मौत की सजा भी डिफ्रैंट थीं. आज हम आपको बता रहे हैं पुराने दौर की सबसे भयानक और क्रूर सजाएं

1. पेट फाड़ कर निकलता था चूहा…रेट टॉर्चर


मौत देने का ये क्रूर तरीका चाइना में इस्तेमाल किया जाता था. यहां अपराधी को न्यूड लिटाकर बांध दिया जाता था और उसके पेट पर चूहों से भरा एक पिंजरा रख दिया जाता था. पिंजरे के ऊपर जलते हुए अंगार रख दिए जाते थे, जिसकी गर्मी चूहे बचने के लिए जगह बनाने लगते और व्यक्ति का पेट फाड़ देते थे.

2. आरी से काटना

ये सजा पीड़ित को घोर व गंभीर अपराध के लिए दी जाती थी। इसमें एक खंभे के सहारे पीड़ित का पैर बांधकर उसे उलटा लटका दिया जाता था। उल्टा इसलिए लटकाया जाता था ताकि उसके दिमाग को ब्लड सप्लाई चालू रहे और वो इंसान ज्यादा समय तक ज़िंदा रहे। उसके बाद एक बड़ी आरी लेकर उसको बीच में से धीरे धीरे काटा जाता था। किसी किसी मुजरिम को ही पूरा दो हिस्से में काटा जाता था अधिकतर को तो केवल काटकर ही दिया जाता था।

3. चमड़ी उतार देना

राचीन ब्रिटेन में ऐसी खौफनाक सजा दी जाती थी कि देखन वालों की रुह कांप जाती थी. यहां किसी दूसरे देश के सैनिक या अपराधी को पकड़र उसकी चमड़ी शरीर से अलग कर चौराहे पर टांग दी जाती थी. चमड़ी उतारने के दौरान ही व्यक्ति दर्द से मर जाता था.

4. अपराधी को कांसे के बने एक विशालकाय सांड के पेट में बंद कर जलाना

प्राचीन एथेन्स में 560BC के आसपास अपराधियों को ऐसी सजा दी जाती थी देखने वाले सपने में भी जुर्म न करें. अपराधी को कांसे के बने एक विशालकाय सांड के पेट में बंद कर दिया जाता था और उसके नीचे आगे लगा दी जाती थी. कांसे का ये सांड तपकर लाल हो जाता था और इसमें बंद व्यक्ति असहनीय दर्द के साथ जिंदा जल जाता था.

5. शहद लपेटकर मरने के लिए छोड़ना

ग्रीस में दी जाने वाली सजा बेहद अजीब थी. यहां अपराधी को न्यूड कर एक बोट में बांध दिया जाता था और जबरन दूध और शहद पिलाया जाता था. इसके बाद पूरी शहर पर शरीर लपेट कर जंगलों से घिरी एक नदी में छोड़ दिया जाता था.

6. घाव बनाकर मारना

मौत की सजा में इसे सबसे क्रूर सजा करार दिया जा चुका है. चाइन में दी जाने वाली इस सजा में धारदार चाकू से धीरे-धीरे व्यक्ति के शरीर में छोटे-छोटे घाव बनाए जाते थे और फिर तड़पा-तड़पाकर मांस निकाला जाता था. ये तब तक किया जाता था जब तक उस शख्स के प्राण न नकिल जाएं. 1905 में इस सजा को बैन कर दिया गया था. इस दौरान दया के तौर पर अपराधी को अफीम खिलाई जाती थी.

7. लकड़ी के खंजर में बैठाकर चीरना

प्राचीन रोम में अपराध करने वालों का लकड़ी के नुकीले खंजर पर बिठा दिया जाता था और धीरे-धीरे खंजकर हवा में उठा दिए जाते थे. इससे खंजर व्यक्ति के शरीर को चीरता हुए सिर या सीने से बाहर निकल जाता था.

8. द ब्रेकिंग वील

ये सजा जर्मनी में दी जाती थी, जहां अपराधी को विशाल चके में बांध दिया जाता था. द ब्रेकिंग व्हील को कैथरीना व्हील के नाम से भी जाना जाता था. इस हथियार से पीड़ित जिंदा नहीं पता था. लेकिन यह उसे इतना तड़पा कर मारता था कि देखने वालों की रूह कांप उठती थी. पीड़ित को वहीं से बांधकर उस पर हथौड़े से तब तक पर वॉर किया जाता था जब तक उसके शरीर की हड्डियां टूट नहीं जाती

9.ब्रेस्ट रिपर  (The Breast Ripper) :

10 Dangerous Torture, 10 Most Cruel Torture, punishment, Torture,cruel punishment
ये प्रताड़ना सिर्फ महिलाओं को दी जाती थी। अगर कोई महिला दूसरे पुरुष के साथ अंतरंग संबंध बनाती पाई जाती या फिर उस पर इस तरह का आरोप साबित होता, तो ब्रेस्ट रिपर के जरिए उसे प्रताड़ना दी जाती थी। रिपर को महिला के ब्रेस्ट से लगाकर जोर से दबा दिया जाता था। हालांकि, हैवानियत की इंतिहा इतनी ही नहीं, चिमटानुमा इस हथियार को आग पर तपाया जाता था। इस प्रताड़ना के दौरान पीड़िता के उभार को पूरी तरह से निकाल बाहर किया जाता था। इस सजा में अधिकतर स्त्रियों की मौत हो जाती थी और जी ज़िंदा बचती थी उनकी ज़िन्दगी मौत से बदतर होती थी।

10. घातक हथियार (The Pear of Anguish) :
10 Dangerous Torture, 10 Most Cruel Torture, punishment, Torture,cruel punishment
तस्वीर में देख आप अंदाजा लगा सकते हैं कि छोटा-सा ये हथियार पीड़ित के लिए कितना कष्टदायक साबित हो सकता है। इस हथियार का इस्तेमाल बच्चा गिराने वाली महिलाओं, झूठ बोलने वालो और होमो सेक्सुअल लोगो पर होता था। ये नुकीला हथियार ऊपर लगा पेच घुमाने पर चार हिस्सों में बंट जाता है। इस हथियार को झूठ बोलने वालों के मुंह में, एबॉर्शन कराने वाली महिलाओं की योनि में और होमो सेक्सुअल लोगो की गुदा में डाल कर इसके पेच को घुमाया जाता था। जैसे जैसे पेच को घूमते यह बड़ा होता जाता जिससे की पीड़ित को असहनीय दर्द होता, फिर उसकी खाल फट जाती और हड्डियां टूट जाती। अंत में अभियुक्त की मृत्यु हो जाती।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here