18 लड़कियों से कर चुका है रेप दोस्त की बीवी, फ्रेंड और GF किसी को नहीं छोड़ा

200
gustar tapan gurga vijay menon case in durg chhattisgarh,,chhattisgarh

दुर्ग (छत्तीसगढ़)। एक दिन पहले गांजे की तस्करी करते पकड़े गए गैंगस्टर तपन सरकार का गुर्गा (यह भी गैंगेस्ट है…) विजय मेनन की एक-एक कर करतूतों का खुलासा हो रहा है। मेनन 14 साल से लेकर 45 साल तक की महिलाओं को शिकार बनाता था। वैसे तो मेनन ने 18 से अधिक को शिकार बनाया लेकिन उसकी दहशत के कारण सिर्फ 3-4 पीड़ितों ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। यही नहीं, विजय ने अपने ही दोस्त के घर जाकर उसकी पत्नी के साथ रेप किया। दोस्त जेल गया, तो पत्नी ने खुदकुशी तक कर ली। इसके अलावा मेनन ने कई छात्राओंं को प्यार का झांसा देकर शिकार बनाया। अपने मंसूबों को अंजाम देने के लिए मेनन ने कॉलेज में पढ़ने वाले छात्रों के हॉस्टल पर कब्जा कर रखा था। जहां लड़कियों को लेकर आता। एक पीड़ित के अनुसार, मेनन घर नहीं जाने देता था। दो-दो दिन कमरे में ही रुकने को मजबूर करता था, फिर रेप करता। जैसे-तैसे उसके चंगुल से छूटकर भागती थी। पीड़ितों ने यह भी बताया- मेनन हमेशा अपने पास हथियार रखता था। जिसे वह गले या कनपटी पर रखकर धमकाता था और जबरदस्ती करता था। इसका खुलासा पुलिस की जांच में हुआ। वहीं, दैनिक भास्कर ने 14 साल से लेकर 45 साल की पीड़ितों से बातचीत की, तो ये चौंकाने वाले खुलासे हुए।

स्कूल के बाहर कहा- फ्रेंड बनोगी, फिर जीएफ बनाकर किया रेप

पीड़िता-1 :मेरी मुलाकात उससे स्कूल के बाहर हुई। मैं जब क्लास से निकलती तो वह स्कूल के बाहर मिलता था। दो साल पहले एक दिन अचानक स्कूल के बाहर उसने मुझे दोस्ती करने के लिए कहा। फिर प्यार की बातें कहकर मुझे झांसे में लिया। इसके बाद जबरदस्ती करने लगा। इसके बाद वह लगातार शोषण करने लगा। मेरे मना करने पर मुझे बहुत मारता-पीटता था। गलती ये है कि मैंने घरवालों को भी कभी नहीं बताया। दरअसल, मैं डरती थी कि कहीं वो घर वालों को नुकसान न पहुंचा दे। मैं पूरी तरह टूट गई थी। मजबूर हो गई थी। बदनामी के डर से कभी पुलिस में रिपोर्ट भी नहीं की।

दोस्त था, पत्नी से संबंध बनाए, परिवार टूट गया

पीड़िता-2:विजय मेनन के बारे में जानकारी देते हुए एक व्यक्ति ने बताया कि मैं और मेनन किसी समय में बहुत अच्छे दोस्त थे। दोस्ती के नाते मैं उसे अपने घर लेकर जाता था। 4 साल पहले पता चला कि विजय ने मेरी पत्नी के साथ अवैध संबंध बना लिए थे। जिसकी वजह से मैं और मेरी पत्नी अलग हुए। हमारा परिवार टूट गया। एक केस में जब मैं जेल गया तो मेरी पत्नी ने मिट्टी का तेल डालकर खुदकुशी कर ली। पत्नी का अंतिम संस्कार कर दिया। लेकिन मैं विजय से बहुत डरता था। इसलिए कभी रिपोर्ट नहीं लिखवाई।

दोस्त के कहने पर गई थी कनपटी पर गन रख किया रेप

पीड़िता –3: मैं अभी पीजी में रहती हूं। मेरे एक फ्रेंड ने विजय मेनन से मिलवाया था। एक दिन अचानक से मेनन का फोन आया, फिर लगातार आने लगा। उसके पास नंबर कहां से आया, मुझे नहीं पता। वो रूम में बुलाता था। एक दिन फ्रेंड के कहने पर ये जानने चली कि आखिर क्यों बुला रहा है। पहुंचने पर मेनन ने गन दिखाई, मैं डर गई। फिर उसने मेरे साथ जबरदस्ती की। इसका वीडियो तक बना लिया, जिसकी वजह से मुझे ब्लैकमेल करता था। कहता था- किसी को बताया तो तुझे जान से मार दूंगा। अब मैं घर से दूर यहां पढ़ने आई हूं। कभी घरवालों को नहीं बताया। क्योंकि वो सदमा बर्दाश्त नहीं कर पाएंगे