वैश्यालय की खौफ़नाक सच्चाई, मर्दों से सेक्स के साथ-साथ रोज़ शरीर पर…

259
crime news in hindi

दिल्ली का सबसे बदनाम इलाका जीबी रोड, जहाँ शराफ़त का चोला उतार कर हर कोई अपनी उन ख्वाहिशों को पूरा करने पहुँच जाता है जो वो सभ्य समाज में पूरी नहीं कर सकता. हाल ही में दिल्ली के इसी बदनाम इलाके जीबी रोड के दलदल से दो महिलाओं को महिला आयोग ने कड़ी मशक्कत के बाद बचाया. जाहिर सी बात है ऐसे दलदल से निकलना सबके नसीब में नहीं होता. ऐसे में यहाँ से निकलने के बाद दोनों महिलाओं ने अपनी आपबिती जाहिर की.

इस मामले में अबतक मिली जानकारी के अनुसार महिलाओं ने बताया कि, “हम लोगों के साथ वहां जो भी हुआ उसका हम किसी को एहसास भी नहीं दिलवा सकते. वो सब एक भयानक सपने जैसा था.” सिर्फ इतना ही नहीं मानव तरस्करी के द्वारा लायी गयीं इन दोनों महिलाओं ने बताया कि इनके शरीर को गोरा करने के लिए इन्हें पत्थर से रगड़ा जाता था. उससे बहुत दर्द होता था लेकिन किसी को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता था. जब पत्थर से रगड़ने से भी लड़कियां गोरी नहीं हुईं तो तरह तरह के कमिकल से उन्हें गोरा किया जाने की कोशिश की जाती थी.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार महिला आयोग द्वारा सुरक्षित निकाली गईं ये दोनों महिलाएं फिलहाल कस्टडी में रखी गयी हैं. अपनी व्यथा सुनाते हुए पीड़िताओं ने बताया कि उन्हें मानव तरस्करी के द्वारा दिल्ली लाया गया था. बताया जा रहा है कि महिला आयोग को एक फोन कॉल के जरिए दोनों महिलाओं की जानकारी मिली थी. जिसके बाद महिला आयोग के सदस्य दिल्ली के निजामुद्दीन मदद करने पहुंचे और महिलाओं को सुरक्षित निकाला जा सका. बताया जा रहा है कि महिलाओं के चेहरे और गर्दन पर जलाने की निशान भी मौजूद हैं.

लम्बी चली जांच के बाद पाया गया कि इन महिलाओं को गोरा करने के लिए वेश्यालय में इनके शरीर पर पत्थर रगड़ने जैसे निर्दय काम किए जाते थे ताकि इन महिलाओं के जरिए वैश्यावृति का काम करवाया जा सके. महिलाओं ने बताया कि संवाला रंग होने की वजह से कस्टमर इन्हें पसंद नहीं करते थे, जिसका सीधा असर धंधे पर पड़ता था.