मासूमों के सिर के टुकड़े-टुकड़े कर दिए, मौत के समय स्कूल ड्रेस में थे दोनों

253
triple murder in for money in ludhiana,,ludhiana ludhiana,patiala

लुधियाना.चंद रुपयों के लिए ममेरे भाई ने बुजुर्ग बहन और उसके नाती-नातिन की शुक्रवार को हत्या कर दी। दोनों बच्चे परिवार के इकलौते थे। आरोपी ने पहले महिला का रस्सी से गला घोंटा, फिर बच्चों के सिर पर हथौड़ा मारकर टुकड़े-टुकड़े कर दिए। मृतकों की पहचान गुरविंदर कौर (55), मनदीप (7) और हितिक (6) के रूप में हुई है। घर में रखे 50 हजार रुपए गायब हैं। पुलिस के मुताबिक, कैरेक्टर सही नहीं होने से पत्नी भी आरोपी को छोड़ गई थी। तब बहन गुरविंदर ने ही पड़ोस में मकान दिलाया और रोजाना उसे खाना भी खिलाती थी।

– गुरविंदर कौर की दो बेटियां सोनम और नीरू हैं। मृतक मनदीप सोनम की बेटी और हितिक नीरू का बेटा था। मौसेरे भाई-बहन चंडीगढ़ पब्लिक स्कूल के स्टूडेंट थे और परिवार के इकलौते बच्चे थे। हितिक एलकेजी और मनदीप फर्स्ट क्लास में पढ़ती थी।
– दोनों बच्चे स्कूल से सीधे नानी के घर आते थे और शाम को मनदीप अपने घर जाती थी। हितिक के पिता तरुण, माता नीरू पहले पटियाला में रहते थे। ढाई महीने पहले गुरविंदर के पास आकर रहने लगे थे।

मुझे नहीं पता था बेटे का अंतिम बर्थडे होगा: नीरू
– दोपहर सवा दो बजे गुरविंदर के पति घर आए। ताला लगा होने पर गुरविंदर को फोन किया। मोबाइल बंद आने पर नीरू को फोन लगाकर बुलाया। उसके आने पर ताला तोड़ दोनों ऊपर गए। छत पर पालतू कुत्ता बंद था। शाम करीब पौने पांच बजे नीरू सफाई करने लगी तो देखा कि कई जगह खून के छींटे थे। वह नीचे गई तो गद्दे वाले कमरे में तीनों की लाश पड़ी थी।
– हितिक की मां ने बताया, हितिक स्कूल से 12 बजे और मनदीप एक बजे आती थी। बच्चों को स्कूल से आकर यूनिफॉर्म तक उतारने का मौका नहीं मिला।
– रोते हुए नीरू ने कहा, 19 जुलाई को हितिक का बर्थडे था। पटियाला में हर बार उसका बर्थडे धूमधाम से मनाते थे। इस बार भी उसने मुझसे कहा था- बर्थडे पहले की तरह मनाएं। नीरू एक ही बात बोल रही थी कि उसे पता नहीं था यह बर्थडे उसके बेटे का आखिरी बर्थडे बन जाएगा।

टिफिन बॉक्स को छाती से लगा बोली- मनदीप आ रही है
– मनदीप पढ़ाई में काफी अच्छी थी। उसकी मां सोनम लाशें देखने के बाद भी देर रात तक यह मान नहीं रही थी कि उसकी बेटी की मौत हो चुकी है। वह बेटी के स्कूल बैग, किताबें और टिफिन बॉक्स को छाती से लगाकर लगातार एक ही बात कर रही थी कि उसकी बेटी आ रही है।