महिला को किया निर्वस्त्र, 500 लोगों के बीच गली-गली घुमाया, 8 पुलिसवाले सस्पेंड

261
Woman paraded without Clothes and beaten in Bihar
आईजी बोले- वीडियो बनाने वालों पर भी होगी कार्रवाई।

आरा. बिहार के बिहिया में महिला को निर्वस्त्र कर घुमाने और पीटने मामले में 15 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। वहीं, एसपी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए बिहिया के थानेदार कुंवर गुप्ता समेत 8 को सस्पेंड कर दिया। सोमवार को बिहिया में जो हुआ, वो मानवता को शर्मसार करने वाला था। उग्र भीड़ ने पुलिस के सामने ही रेड लाइट एरिया की एक 35 वर्षीय महिला को घर से खींच कर निकाला। फिर उसे निर्वस्त्र कर पीटते हुए लगभग आधा किलोमीटर तक शहर के कई रास्तों में सरेआम घुमाया। महिला रहम की भीख मांगती रही, लेकिन भीड़ के बहरे कान तक उसकी गुहार नहीं पहुंच पाई।

क्या है मामला?

– दरअसल, सोमवार को भोजपुर जिले के बिहिया में एक युवक की रेलवे ट्रैक पर लाश मिलने के बाद हिंसक भीड़ ने रेड लाइट इलाके में रहने वाली एक महिला की पिटाई कर दी। उग्र लोगों ने रेड लाइट इलाके में तोड़फोड़ करके तीन घरों में आग भी लगा दी थी।

– लाश की शिनाख्त बिमलेश कुमार शाह के रूप में हुई। वह बहोरनपुर थाना क्षेत्र के दामोदरपुर गांव का रहने वाला था। मृतक के परिजनों ने आरोप लगाया कि रेड लाइट के एक घर के लोगों ने युवक की हत्या करके शव को रेलवे ट्रैक के पास फेंक दिया।
– उधर, युवक का शव मिलने के बाद स्थानीय लोगों ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने इसे जीआरपी का मामला बताकर शव उठाने से मना कर दिया। जीआरपी ने भी कह दिया कि मामला पुलिस का है। इस दौरान वहां भीड़ बढ़ती गई। साथ ही, खबर फैल गई कि रेड लाइट इलाके में युवक के पैसे छीने गए और गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद लोग भड़क गए और उपद्रव शुरू कर दिया।

उग्र भीड़ के आगे मूकदर्शक बनी रही पुलिस
– दोपहर लगभग 3 बजे ही उपद्रवियों ने रेड लाइट एरिया में घुसकर तोड़फोड़, घर में घुसकर आग लगाने और गुमटी जलाने लगे। लेकिन, पुलिस मूकदर्शक बनी रही।
– इसका मुख्य कारण पुलिस के पास पर्याप्त बल नहीं होना बताया जा रहा है। लगभग 5 बजे शाहपुर, गजराजगंज जगदीशपुर थाने की पुलिस पहुंची। इसके बाद हिंसक भीड़ को छितर-बितर करने के लिए हवाई फायरिंग शुरू की।
– लेकिन हवाई फायरिंग के जवाब में हिंसक भीड़ ने रेलवे लाइन से पत्थरों को उठाकर पथराव शुरू कर दिया। पथराव शुरु होते ही पुलिसकर्मी जान बचाकर वहां से भाग निकले और कुछ लोगों के घरों में घुसकर छिप गए। इधर, बदनाम एरिया आग में धधकता रहा। अधिकांश महिलाएं, बच्चे व पुरुष जान बचाने के लिए दोपहर में घर छोड़कर भाग गए थे।