मंदिर में मुझे किस करना चाहता था पुजारी

0
104
Goa priest

पणजी
गोवा के एक मंदिर में पुजारी द्वारा मेडिकल छात्रा से बदसलूकी का मामला सामने आया है। हालांकि श्री मंगुएशी मंदिर का कहना है कि आरोपों पर अभी पर्याप्त सबूत नहीं मिले हैं। गोवा मूल की मेडिकल छात्रा ने अमेरिका पहुंचकर पुजारी के कथित दुर्व्यवहार का खुलासा किया है।

‘प्रदक्षिणा के बहाने करीब बुलाया’
दक्षिण गोवा के मंगेशी गांव में स्थित मंदिर की प्रबंध समिति श्री मंगुएश देवस्थान को दी अपनी शिकायत में छात्रा ने कहा है कि 22 जून को वह अपने माता-पिता के साथ मंदिर का दर्शन करने पहुंची थीं। मंदिर समिति को सौंपी अपनी शिकायत में पीड़ित छात्रा ने कहा है, ‘मंदिर के गर्भगृह के बाहरी इलाके में स्थित लॉकर एरिया में पहुंचकर उन्होंने मुझसे प्रदक्षिणा लेने के लिए कहा। उन्होंने इशारों में मुझे अपने पास बुलाया और अपनी बांह मेरे कंधों पर रख दी। इसके बाद उन्होंने मुझे कसकर जकड़ लिया और किस करने की कोशिश की।’

मुंबई पहुंचकर मां को बताई आपबीती
पीड़ित छात्रा का कहना है कि ऐसे बर्ताव से वह सदमे में आ गईं और उन्हें गहरा धक्का लगा। छात्रा के मुताबिक उन्हें इस वाकये से इतना गहरा झटका लगा कि जब वह मुंबई पहुंचीं, तब कहीं जाकर अपनी मां को घटना के बारे में बताया। छात्रा का कहना है, ‘जांच के तहत मंदिर कमिटी को 22 जून के सीसीटीवी फुटेज की जरूर जांच करनी चाहिए।’

मंदिर कमिटी को नहीं मिला सबूत
पीड़िता को जवाब देते हुए मंगुएश देवस्थान समिति के सचिव अनिल केंकरे ने 11 जुलाई को लिखा कि प्रबंध समिति की 4 जुलाई को हुई आपात बैठक के दौरान उसकी शिकायत पर चर्चा की गई। केंकरे ने कहा, ‘आरोपों की जांच के दौरान कमिटी को को प्रथम दृष्टया विश्वास के लायक कोई सबूत नहीं मिला।’ साथ ही उन्होंने कहा कि अगर वह संतुष्ट नहीं हैं, किसी उचित अथॉरिटी के सामने अपनी शिकायत रख सकती हैं।

मंगुएश मंदिर में जुटते हैं काफी सैलानी
केंकरे ने साथ ही कहा, ‘मंदिर समिति ने उनको जवाब दे दिया है। इसके साथ ही मामला खत्म हो गया है।’ श्री मंगुएशी मंदिर में स्थित भगवान मंगुएश को भगवान शिव का ही अवतार माना जाता है। गोवा के इस मंदिर में पर्यटक और स्थानीय लोग भारी तादाद में दर्शन के लिए पहुंचते हैं। गौड़ सारस्वत ब्राह्मणों के वंशज इस मंदिर के देवता के प्रमुख रूप से अनुयायी हैं।