बिहार में निर्वस्त्र करके सड़क पर घुमाई गई एक मां के लाचार बेटे ने जोड़े हाथ, सुनिए उसका दर्द

148
molestation in bihar, women moleatation in bihar,women molestation,Without clothes

बिहार के बिहिया में एक युवक का शव मिलने के बाद भीड़ उग्र हो गई थी। लोग महिला को दोषी मान रहे थे।

आरा/बिहिया। बिहार में बिहिया शहर के रेड लाइट एरिया के पास सोमवार को एक युवक शव मिलने के बाद आगजनी, उपद्रव, पथराव और एक महादलित महिला को बाजार में निर्वस्त्र घुमाने की शर्मनाक वारदात के बाद राजनीति गर्मा गई है। इस घटना की कड़ी निंदा हो रही है।

-अब भले ही प्रशासन मुस्तैदी दिखाए, लेकिन महिला के जख्म शायद ही कभी भर पाएं। पीड़िता का बेटा अब मां के लिए न्याय चाहता है। इस मामले में एक नेता समेत 15 लोग गिरफ्तार किए गए हैं। तीन अलग-अलग केस दर्ज किए गए हैं। बता दें, जिस युवक की मौत के शक में महिला को घर से खींचकर निर्वस्त्र किया गया और 500 लोगों के साथ बाजार में घुमाया गया, सदमें में उसकी बहन की भी जान चली गई।

– शाहाबाद रेंज के डीआईजी विनय कुमार ने घटनास्थल पर मुआयना किया। डीएम और एसपी ने वहां कैम्प किया और दोषियों पर कार्रवाई को लेकर थाने में मातहत अधिकारियों के साथ कई बार बैठक की।
– एसपी ने बिहिया थाने में सभी 15 लोगों से पूछताछ की, इनमें एक नेता किशोरी यादव भी शामिल है। वह किस दल का है, इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है।
– राजद व जाप (लो) अपनी पार्टी का नेता होने की बात खारिज कर चुकी है। पुलिस उस पीड़ित महिला से भी घटनाक्रम की जानकारी ली, जिसे निर्वस्त्र कर घुमाया गया था।

क्या था पूरा मामला…
– मृतक का नाम विमलेश कुमार साह था। वह आरा कॉलेज में एडमिशन कराने के बाद बिहिया पहुंचा था। इसी दौरान उसके साथ कुछ संदेहास्पद घटना घटी और उसका शव रेड लाइट एरिया के रेल लाइन के बीच पाया गया।
– सोमवार दोपहर में शव की सूचना मिलने के बाद रेल पुलिस और स्थानीय थाने की पुलिस पहुंची। सीमा विवाद को लेकर पुलिसिया एक्शन में देरी हुई। इससे भीड़ उग्र हो गई और देखते-देखते हिंसा फैल गई।
– घटना के 4 घंटे बाद भी पुलिस का कोई सीनियर अफसर घटनास्थल पर नहीं पहुंचा। शाम लगभग 7 बजे पुलिस लाइन से भारी संख्या में पुलिस बल और फायर बिग्रेड ने उपद्रवियों को खदेड़ा। इसके बाद शव को अपने कब्जे में लिया।

पीड़ित दलित महिला को 2 लाख मुआवजा देगी सरकार
डीएम और एसपी ने बताया कि बिहिया कांड में तीन एफआईआर दर्ज की गई हैं। 15 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। मृत युवक विमलेश कुमार साह के चाचा ने अज्ञात पर केस किया है। पीड़ित दलित महिला ने 15 नामजद व 5 दर्जन अज्ञात को आरोपी बनाया है। पुलिस के बयान पर सात नामजद व 300 अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया गया है। डीएम ने बताया कि पीड़ित महिला को दो लाख रुपए मुआवजा दिया जाएगा।

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में युवक की गला दबाकर हत्या का खुलासा, शारीरिक संबंध की होगी जांच
– एक सवाल के जवाब में डीएम ने कहा कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के अनुसार विमलेश की हत्या गर्दन दबाकर की गई है। तीन डॉक्टरों के बोर्ड ने विमलेश के शव का पोस्टमॉर्टम किया। विमलेश के हत्या के कारण पर अब भी संशय है।
– परिजनों के अनुसार वह रविवार को कौशल विकास केंद्र में नामांकन की बात कहकर घर से रविवार को निकला था। सोमवार को उसका शव बिहिया कैसे पहुंचा, इस बारे में परिवार अनभिज्ञ है। वहीं, अपुष्ट चर्चा यह भी है कि विमलेश कभी-कभी रेड लाइट एरिया में देखा जाता था।
– विमलेश के शव के पास से साक्ष्य मिटाने की कोशिश एक दूसरी नर्तकी ने की थी। शवस्थल के पास पानी से धोने का प्रयास किया गया। हालांकि, इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। इस बीच, विमलेश की हत्या में शारीरिक संबंध की जांच के लिए उसका अंडरगार्मेंट जब्त कर लिया गया है।
– सदर अस्पताल के अधीक्षक सह प्रभारी सिविल सर्जन डॉक्टर सतीश कुमार सिन्हा ने बताया कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में विमलेश की हत्या गला दबा करने का उल्लेख है। उसके गले की हड्‌डी टूट पाई गई है।

रेडलाइट मोहल्ले में रहने वालीं डांसर कर गईं पलायन, घरों में ताले बंद 
रेडलाइट एरिया सोमवार की घटना के बाद वीरान रहा। रेल लाइन के किनारे बसे डांसरों के घरों को जलाने, तोड़फोड़ और बर्बाद घरेलू सामान के सबूत सोमवार की क्रूर त्रासदी की गाथा बयां कर रहे थे। जगह-जगह जले कपड़े, टूटे बक्से व घरेलू सामान बिखरे पड़े थे। नाच-गान कर अपनी जिंदगी बसर करने वाली महिलाओं के घरों में ताले बंद थे। सभी परिवार डर से पलायन कर चुके हैं। रेडलाइट मुहल्ले का इतिहास बिहिया नगर पंचायत में करीब 50 साल पुराना है। पुलिस का मानना है कि इस एरिया में बाहर के अपराधी भी आते हैं। 1990 में नेपाल की लड़की को यहां लाकर बेचा गया था। बाद में पुलिस ने छापेमारी कर उसे बरामद कर नेपाल भेजा।

एक साथ हुई तीन घटना, जल्द होगा चार्जशीट: डीआईजी 
शाहाबाद रेंज के डीआईजी विनय कुमार ने कहा, बिहिया में एकसाथ तीन घटनाएं हुई। पहली हत्या, दूसरा उपद्रव-आगजनी व तोड़फोड़, तीसरा- महिला के साथ शर्मसार करने वाली घटना। तीनों घटनाओं की एफेक्टिव जांच पुलिस करेगी। टीम का गठन कर दिया गया है। ठोस साक्ष्यों के आधार पर कोर्ट में जल्द चार्जशीट दायर की जाएगी।

राज्य महिला आयोग ने बिहिया मामले पर लिया संज्ञान 
बिहार राज्य महिला आयोग ने मंगलवार को आरा के बिहिया थाना अंतर्गत महिला के साथ हुई घटना पर स्वतः संज्ञान लिया है। आयोग ने प्रशासन से सवाल किया है कि जिस वक्त ये घटना हो रही थी तो क्या उस बाजार में कोई पुलिस या पुलिस पदाधिकारी ड्यूटी पर नहीं थे। घटनास्थल से वहां के लोकल थाने की दूरी कितनी है। क्योंकि जानकारी के अनुसार घटना के एक घंटे के बाद स्थानीय पुलिस वहां पहुंची। आयोग ने मामले की पूरी जानकारी मांगते हुए डीजीपी और आरा एसपी को पत्र भेज दिया है।

राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष दिलमणी मिश्रा ने कहा, बिहार में महिलाओं की सुरक्षा और इज्जत एक गंभीर मुद्दा बनती जा रही है। मुजफ्फरपुर का मामला अभी सुलझा भी नहीं कि बिहिया के मामले ने फिर बिहार और महिलाओं को शर्मसार कर दिया है। बिहिया में एक महिला को नंगा कर पूरे बाजार में घुमाया जाता है और प्रशासन तत्परता से कार्रवाई नहीं करता। आयोग की टीम मामले की जांच करने बिहिया जा सकती है।