नानी के घर आई 3 साल की बच्ची से रेप

46
3 year girl physically assaulted by hawker in jhunjhunu

झुंझुनूं.नानी के घर आई तीन साल की मासूम लक्ष्मी (बदला हुआ नाम) शुक्रवार दोपहर बीडीके अस्पताल के जनाना विंग के एक बेड पर गुमसुम बैठी थी। वो नहीं जानती थी कि उसके साथ क्या हुआ है। उसके आगे कई तरह के खिलौने पड़े थे। वो उससे खेल रही थी। लेकिन कोमल दिल पर लगे उस जख्म को याद कर खिलौने के पीछे अपना चेहरा छिपा लेती। यह देख अस्पताल में आने वाला हर शख्स भावुक हो गया। चार दिन पहले एक फेरीवाले ने उसके साथ दुष्कर्म किया था। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

मलसीसर के निकट डाबड़ी धीरसिंह में अपने ननिहाल आई तीन साल की मासूम से दुष्कर्म करने वाले को पुलिस ने शुक्रवार सुबह सात बजे चिड़ावा में दबोच लिया। उसे पकड़ने में फरड़ा की ढाणी के मनमोहन सिंह की मदद खूब काम आई। घटना के बाद छुट्टी पर गए एसएचओ सुनील कुमार ड्यूटी पर लौट आए। सिटी डिप्टी ममता सारस्वत और ग्रामीण के चांदमल मॉनीटर करते रहे। पुलिस ने रात भर की मशक्कत के बाद आरोपी बर्तन बेचने वाले अलीपुरा लालसोट (दौसा) निवासी विनोद को पकड़ लिया। पुलिस ने आरोपी की बाइक भी जब्त कर ली। पुलिस की टीमों ने डाबड़ी धीरसिंह से मंड्रेला और चिड़ावा तक लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगाले। 12 घंटे बाद चिड़ावा में गोशाला के पीछे किराए के मकान से दबोच लिया।

दुष्कर्म के बाद गर्भवती पत्नी और भाई से बोला-आज खास बिक्री नहीं हुई
अलीपुरा लालसोट (दौसा) निवासी विनोद पुत्र रूप सिंह गुरुवार को अन्य दिनों की अपेक्षा जल्दी घर लौट आया। वह चिड़ावा के वार्ड 30 में अपने भाई वकील सिंह, भाभी उमन व पत्नी सुमन के साथ किराए पर रह रहा था। विनोद ने भाई और गर्भवती पत्नी से बताया कि आज फेरी में खास बिक्री नहीं हुई, कल सुबह जल्दी जाऊंगा। रात का खाना घर वालों के साथ खाया। कुछ देर बात कर सो गया। शुक्रवार सुबह करीब छह बजे दो गाड़ियों में आठ-दस पुलिस वाले पहुंचे तो आरोपी विनोद बिस्तर पर लेटा मिला। विनोद का परिवार सात-आठ वर्ष से किराए के मकान बदल कर रह रहा है।

सिटी हीरो : मनमोहन की मदद से आरोपी तक पहुंची पुलिस, पूरी रात साथ रहा
पुलिस की मदद करने वाले मनमोहनसिंह ने बताया कि मैं सुबह सवा नौ बजे घर के बाहर बैठा था। इसी दौरान बर्तन बेचने वाला आया। मेरे पड़ोसी ने कहा कि उसके पास पुराने बर्तन है, उन्हें देकर नए ले लेते हैं। मैंने दोनों का सौदा कराया। बातचीत में मैंने पूछा कि कहां के हो, उसने बताया, दौसा का हूं। गुरुवार रात नौ बजे डाबड़ीधीर से आए फोन पर बच्ची के परिजनों को बताया कि एक बर्तन बेचने वाला यहां आया था। फिर पुलिस का फोन आया कि आप मदद करो, मैं और मेरा एक पड़ोसी पूरी रात पुलिस के साथ रहा। आखिर चिड़ावा पहुंच कर पुलिस ने उसे पकड़ ही लिया।

परिजनों को 2.20 लाख रुपए की सहायता राशि मंजूर
मासूम को शुक्रवार सुबह 11 बजे मलसीसर से झुंझुनूं बीडीके अस्पताल लाए थे। यहां जांच कर नए सिरे से पट्टी आदि की गई। सखी सेंटर की टीम देखरेख करने पहुंच गई। कलेक्टर दिनेश कुमार यादव, सभापति सुदेश अहलावत, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की पूर्णकालिक सचिव मधु हिसारिया, बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष सुमन, सदस्य कृष्णा अहलावत और महिला अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक विप्लव न्यौला भी वहां पहुंचे। मदद के लिए बनाई गई विभाग की जिला महिला सहायता समिति की ओर से मासूम की नानी को तीस हजार रुपए दिलाए। इसी दौरान अस्पताल पहुंची राजस्थान बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की टीम ने बच्ची की स्क्रीनिंग की। डॉ. दीपिका, डॉ. विकास सोलंकी व डॉ. सीमा यादव ने बताया कि आरबीएसके कार्यक्रम के तहत इस बच्ची के दिल में छेद की बीमारी को देखते हुए जयपुर में निशुल्क ऑपरेशन किया जाएगा। कागज तैयार कर दिए हैं, एक सप्ताह के भीतर यह ऑपरेशन हो जाएगा। इस बीच जिला एवं सेशन न्यायाधीश अशोक कुमार जैन की पहल पर बच्ची के परिजनों को पीड़ित प्रतिकर स्कीम के तहत 2 लाख 20 हजार रुपए की सहायता मंजूर की गई।