जिंदा महिला को चिता पर लिटा कर जलाने की थी तैयारी, पुलिस की तत्परता से बची जान

48
aajtaklives news, news in hindi, hindi news, crime news in hindi, brutality-husband-and-inlaws-try-to-burned-woman-alive-on-balefire-in-aara-bihar-police-s, women burn alive, burn alive in bihar, burn alive in ara, burn

जिंदा महिला को चिता पर लिटा कर जलाने की थी तैयारी, पुलिस की तत्परता से बची जान

  • बालू घाट पर काम कर रहे मजदूरों ने पुलिस को जानकारी दी थी
  • अर्द्ध बेहोशी की हालत में महिला ने बताया कि बच्चा नहीं होने के कारण पति और सास-ससुर हमेशा मारपीट करते हैं

आरा. शादी के 18 साल बाद भी महिला को बच्चा नहीं हुआ तो ससुराल वालों ने पहले उसे पीट-पीटकर बेहोश किया, फिर इसी हालत में उसका अंतित संस्कार करने सारिकपुर घाट तक लेकर चले गए। चिता में आग लगाने से पहले ही ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस जब मौके पर पहुंची तो महिला बेहोशी की हालत में चिता पर पड़ी हुई थी और ससुराल वाले वहां से फरार हो चुके थे।

पति और ससुर अक्सर करते थे मारपीट
पुलिस ने देखा तो महिला की सांस चल रही थी। आनन-फानन में संदेश थाना के प्रभारी थानाध्यक्ष अवधेश प्रसाद सिंह एवं एएसआई कैसर अली चिता से उतारकर संदेश रेफरल अस्पताल ले गए। जहां महिला को भर्ती कराया गया। उसकी पहचान संदेश थाना क्षेत्र के संदेश गांव के रविंद्र ठाकुर की पत्नी लक्ष्मी देवी के रूप में हुई। उसका मायके बचरी गांव का है वह भगवान ठाकुर की बेटी है।

यह भी पढ़ें : नंगा होकर और डायरेक्टर को सब कुछ देकर भी बॉलीवुड में…

घटना के बाद संदेश रेफरल अस्पताल में उसके मायके के लोग पहुंच गए, जबकि पति तथा ससुर घर से गायब है। महिला नि:संतान है। इसको लेकर ससुर और पति अक्सर मारपीट करता था। अर्द्ध बेहोशी की हालत में महिला ने बताया कि पति और सास-ससुर हमेशा मारपीट करते हैं। सोमवार को तीनों ने मिलकर पिटाई की और सिर को दीवार से टकरा दिया। जब आंख खुली तो खुद को चिता पर पाया।

मुंह खोलने को तैयार नहीं थे बालू घाट के मजदूर व ठेकेदार
सारीकपुर बालू घाट पर सोमवार को एक विवाहिता को जिंदा चिता पर जलाने की हैवानियत भरी तैयारी चल रही थी। यह तो तय था कि सोमवार की शाम जो लोग सारिकपुर बालू घाट के पास विवाहिता को लेकर आए थे और जिन्होंने तेजी से लकड़ी का चिता बनाने में लगे हुए हैं वह निश्चित तौर पर उनके परिजन एवम इष्ट मित्र होंगे।

करीब 1 घंटे से सब कुछ चल रहा था विवाहिता का शादी का जोड़ा चूड़ियां सिंदूर एवं अन्य सामान भी वहां उपस्थित था बस आग जलाने की देर थी लेकिन इसकी भनक संदेश पुलिस को लग गई थी। लेकिन,  पुलिस के पहुंचने से पहले ही परिवार के लोग फरार हो चुके थे। घाट पर खड़े लोगों से पुलिस ने काफी पूछताछ की। मजदूर ठेकेदार सभी से पूछा लेकिन किसी ने मुंह नहीं खोला।

यह भी पढ़ें : पहली बार संबंध बनाने के बाद मजा न आने पर युवक…

बच्चा नहीं होने पर ससुरालवाले करते थे प्रताड़ित
महिला की शादी साल 2001 में हुई थी। शादी के कई वर्षों तक जब उसे कोई संतान नहीं हुआ तो उसके सास-ससुर ने उसे प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। इन सब में उसका पति भी पूरा साथ देता है। उसने इसकी जानकारी अपने मायके वालों को दी। इससे परेशान होकर जब मायके वाले लोग उसके ससुराल पहुंचे तो उन लोगों ने कहा कि अब प्रताड़ित नहीं करेंगे। कुछ दिनों तक प्रताड़ित करना छोड़ दिया। हालांकि फिर बाद में उसे प्रताड़ित किया जाने लगा।

यह भी पढ़ें : विकास बहल मुझसे सेक्स की बातें करते थे: कंगना रनौत

यह भी पढ़ें : बलात्कार साक्ष्य: जानें क्या है ‘टू फिंगर टेस्ट’

यह भी पढ़ें : पिता ने दुष्कर्म पीड़ित गर्भवती पुत्री को श्मशान में गला दबाकर…


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें