जिंदा जलता रहा युवक, तड़पते हुए चिल्लाता रहा मदद की बजाय लोग बनाते रहे वीडियो

171
young man burning in the fire the people making the video,pradeep sharma,anant kumar,jodhpur,mandore

जोधपुर। सोमवार सुबह एक युवक को जिंदा जला दिया गया। अधजली हालत में युवक वहां करीब आधे घंटे तक तड़पता रहा। युवक को जलते देख मौके पर लोगों की भीड़ एकत्र हो गई, भीड़ युवक का वीडियो बनाती रही लेकिन उसके नजदीक जाने की हिम्मत कोई नहीं जुटा पाया। काफी देर तक वो पानी-पानी चिल्लाता रहा। काफी देर बाद लोगों ने मिट्टी डालकर आग बुझाई।

कुछ देर बाद युवक ने दम तो़ड़ दिया

सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची मंडोर पुलिस ने 108 एंबुलेंस से उसे एमजीएच भेजा। हॉस्पिटल में भी पहले उसे आउटडोर में ले जाया गया, लेकिन बाद में उसे इमरजेंसी भेज दिया। इस चक्कर में करीब 10 मिनट गुजर गए। कुछ देर बाद युवक रामसागर चौराहा के निकट शांति भवन क्षेत्रवासी तरुण परिहार पुत्र राजेंद्रसिंह परिहार ने दम तोड़ दिया। परिजनों ने मंडोर पुलिस को हत्या की आशंका जताते हुए रिपोर्ट दी है। पूरे मामले का खुलासा नहीं होने तक शव उठाने से इनकार करते हुए देर शाम तक परिजन व समाज के लोग एमजीएच मोर्चरी के बाहर धरना देकर बैठे रहे। रात को आक्रोशित लोगों ने मोर्चरी के बाहर रास्ता रोक प्रदर्शन किया। इसके बाद निगम के नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र सोलंकी, सुनील परिहार, सुभाष गहलोत, मयंक देवड़ा, पंकज सांखला सहित अन्य प्रतिनिधिमंडल की पुलिस के आला अधिकारियों से वार्ता हुई। इसमें दो दिन में पूरे मामले का खुलासा कर दोषियों को गिरफ्तार करने का भरोसा मिलने के बाद लोग शांत हुए। मंडोर थानाधिकारी प्रदीप शर्मा ने बताया कि सोमवार सुबह करीब 10 बजे सूचना मिली कि आंगणवा में एक युवक अधजली हालत में पड़ा कराह रहा है। पुलिस टीम कुछ ही देर में मौके पर पहुंची और 108 एंबुलेंस से उसे महात्मा गांधी अस्पताल भिजवाया। पुलिस ने मौके से कुछ कदमों की दूरी पर मिली बाइक नंबरों के आधार पर युवक की पहचान की। उसके भाई अनिल की ओर से हत्या की आंशका जताते हुए रिपोर्ट दी गई है। पुलिस ने एमजीएच मोर्चरी में मेडिकल बोर्ड से शव का पोस्टमार्टम कराया।

बाद में लोगों ने मिट्टीडाल आग बुझाई, पहले पुलिस फिर एंबुलेंस आई

तरुण के परिजनों ने बताया कि वो सुबह करीब नौ बजे बाइक लेकर निकला था। पुलिस के मौके पर पहुंचने से पहले राह चलते लोगों ने उसे जलते हुए देखा, लेकिन उसके पास जाने की हिम्मत कोई नहीं दिखा पाया। सोशल मीडिया पर वायरल जलते युवक के वीडियो में उसके कराहने और बार-बार ‘बचाओ…अरे पानी पिला दो रे…’ चिल्लाते हुए सुना गया। बाद में लोगों ने उस पर मिट्टी डालकर आग बुझाई। कुल तीन वीडियो में लोग बार-बार उससे यही पूछते रहे कि किसने जलाया, लेकिन शायद वो लोगों की बात नहीं सुन पा रहा था। संभवतया आग से उसके कान जलने या कान के पर्दे जलने की वजह से आवाज नहीं सुन पा रहा था।

लेन-देन को लेकर विवाद की आशंका

मृतक के भाई अनिल के अनुसार तरुण सिविल डिप्लोमा कर चुका था और एक दोस्त के साथ पार्टनरशिप में आरसीसी ठेकेदारी का काम करता था। अमूमन वो साइट पर कम ही जाता था। पिछले एक महीने से घर पर ही रहता था। काम ज्यादातर उसका पार्टनर ही संभालता। इसी तरह, क्षेत्र की अशोक कॉलोनी में रहने वाले एक युवक के साथ भी लेनदेन को लेकर विवाद की आशंका सामने आई है। उस युवक का मोबाइल भी बंद बताया जा रहा है। हालांकि, प्रारंभिक पड़ताल में किसी अन्य से कोई रंजिश की बात भी सामने नहीं आई है।

बाइक के आगे व पीछे चलने वाली गाड़ियाें पर संदेह

मोर्चरी के बाहर एकत्र माली समाज के लोगों ने यहां पहुंचे एडीसीपी (ईस्ट) अनंत कुमार व थानाधिकारी शर्मा को बताया कि रामसागर से घर से निकलने के बाद बीच रास्ते में कई जगहों पर लगे सीसीटीवी कैमरों की रिकॉर्डिंग में तरुण की बाइक के आगे और पीछे एक एसयूवी व एक कार चल रही थी। ये दोनों गाड़ियां बाइक के साथ-साथ आगे-पीछे चल रही थी। उन्हें संदेह है कि इस वारदात में उन दो गाड़ियों में सवार अज्ञात लोगों का हाथ हो सकता है। इसी तरह, मौके पर खून से सने पत्थर मिलने की बात भी लोगों ने बताई।