जानिए आखिर क्यों सगे बेटे बन गए बेरहम कातिल

23
aajtaklives news, news in hindi, hindi news, crime news in hindi,father killed by two sons for property in karnal

करनाल (हरियाणा)। जमीन विवाद में दो भाइयों ने मिलकर अपने ही पिता की सिर पर हथौड़ा मारकर हत्या कर दी। अपराध छुपाने के लिए आरोपियों ने पिता की डेडबॉडी को नहर में फेंक कर फरार हो गए। घटना 27 अक्टूबर की है। आरोपी संदीप की पत्नी बबली को वारदात के बारे में पता नहीं था। जब उसका पति, देवर व ससुर घर नहीं पहुंचे तो उसने 28 अक्टूबर को सिविल लाइन थाने में किडनैप की शिकायत दे दी।

पुलिस ने केस दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी। 1 नवंबर को पुलिस को सूचना मिली कि जिन लोगों की उन्हें तलाश है वे इस समय सेक्टर-8 ग्रीन बेल्ट के पास हैं। पुलिस ने तुरंत वहां पहुंच दोनों भाइयों संदीप व कुलदीप को पकड़ लिया।

इस वजह बेटों ने पिता को मार डाला
सेक्टर-13 पुलिस चौकी इंचार्ज एवं जांच अधिकारी एएसआई जितेंद्र सिंह ने मामले की जांच की तो 29 अक्टूबर को बस स्टैंड अंबाला कैंट से उनकी कार बरामद हुई। कार में कई जगह पर खून के दाग थे। कार को कब्जे में लेने के बाद पुलिस को दोनों पर शक हुआ। दोनों भाइयों के पकड़े जाने पर पुलिस ने उनके पिता के संबंध में पूछताछ की तो वे पुलिस को गुमराह करने का प्रयास करते हुए सवालों के अटपटे से जवाब देने लगे। उनकी बाते पर जांच अधिकारी जितेंद्र सिंह का शक गहराने लगा। जब जितेंद्र सिंह ने उनके साथ सख्ती से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि 27 अक्टूबर को अस्पताल से छुट्टी होने के बाद जब वे घर जा रहे थे तो रास्ते में पिता के साथ उनकी कहासुनी हो गई और उनके पिता ने उन्हें धमकी देना शुरू कर दिया कि चाहे जो भी हो जाए वह अपनी जमीन में से उन्हें एक इंच भी नहीं देगा। पूरी जमीन को बेच देगा। इसपर उन्होंने गुस्से में आकर कार के अंदर ही हथौड़े से वार कर पिता की हत्या कर दी।

गुमराह करने के लिए कार अंबाला में की पार्क
पुलिस जांच अधिकारी जितेंद्र सिंह ने उनके साथ सख्ती से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि वारदात के बाद वो घबरा गए थे। उन्होंने अपने पिता के शव को व जिस हथौड़े से वारदात को अंजाम दिया था उसे नहर में फेंक कर फरार हो गए। पुलिस को गुमराह करने के लिए उन्होंने अपनी गाड़ी को अंबाला कैंट में बस स्टैंड की पार्किंग में छोड़ दिया था।

आरोपी की पत्नी ने दी थी पुलिस को शिकायत
सिविल लाइन थाना प्रभारी इंस्पेक्टर मोहनलाल ने बताया कि 28 अक्टूबर को बबली पत्नी संदीप वासी कुंजपुरा ने शिकायत दी कि उसका पति संदीप कई दिनों से बीमार था और 24 अक्टूबर से वह निजी अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती था। 27 अक्टूबर को उसके देवर कुलदीप ने अस्पताल से उसके पति की छुट्टी करवा दी और कुलदीप ने उसके पति व ससुर शक्ति सिंह को किडनैप कर लिया है। अस्पताल में बबली का ससुर भी कुलदीप के साथ था। छुट्टी होने के बाद जब कोई भी घर नहीं पहुंचा तो उसने पुलिस में अपहरण की शिकायत दे दी।