कार्ड क्लोनिंग क्या है? जानें आपका ATM कार्ड ऐसे होता है हैक

0
67
aajtaklives hindi news

नई दिल्ली
कार्ड क्लोन! एक ऐसा टर्म जो अब बहुत ज्यादा सुनने को मिल रहा है। इसके जरिए जालसाज किसी डेबिट कार्ड का क्लोन बना लेते हैं यानी वैसा ही एक डुप्लीकेट कार्ड तैयार कर उसका इस्तेमाल करते हैं। कार्ड क्लोनिंग की घटनाएं लगातार तेजी से बढ़ रही हैं। अब तो एक देश के यूजर के डेबिट कार्ड को क्लोन कर दूसरे देश में ट्रांजेक्शन करने के मामले भी सामने आ रहे हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि आखिर कार्ड क्लोनिंग होती क्या है? कार्ड क्लोनिंग के जरिए किस तरह लोगों को ठगी का शिकार बनाया जा रहा है? आज हम आपको बताएंगे कार्ड क्लोनिंग के इस पूरे खेल के बारे में।

हर डेबिट कार्ड में एक मैग्नेटिक स्ट्रिप होती है जिसमें अकाउंट से जुड़ी सभी जानकारी सेव रहती है।
Advertisement





जालसाज स्कीमर नाम के एक डिवाइस का इस्तेमाल कार्ड क्लोनिंग के लिए करते हैं। इस डिवाइस को एक कार्ड स्वैपिंग मशीन में फिट कर दिया जाता है और कार्ड स्वाइप होने पर यह कार्ड की डीटेल्स को कॉपी कर लेती है। इनमें अकाउंट से जुड़ी सभी जानकारी शामिल रहती है। कॉपी किया गया डेटा एक इंटरनल मेमरी यूनिट में स्टोर हो जाता है।
aajtaklives hindi news
इसके बाद इस डेटा को एक ब्लैंक कार्ड में कॉपी कर दिया जाता है और फ्रॉड ट्रांजेक्शंस को इन्हीं नकली कार्ड के जरिए किया जाता है।

एटीएम के कीपैड में जब कोई यूज़र अपने कार्ड का पिन एंटर करता है तो ओवरले डिवाइसेज़ के जरिए कार्ड के पिन को रीड कर लिया जाता है।
aajtaklives hindi news
इसके बाद जालसाज इन डिटेल्स के जरिए ऑनलाइन ट्रांजेक्शन कर धोखाधड़ी को अंजाम देते हैं।
Advertisement





कुछ डिवाइसेज़ ऐसी होती हैं तो पिन-होल कैमरे के साथ आती हैं और ये एटीएम से पिन को कॉपी कर लेती हैं।
खबरों के मुताबिक, स्कीमर 7 हजार रुपये तक में मिल जाता है। कई ई-कॉमर्स वेबसाइट पर भी इसे खरीदा जा सकता है। क्लोनिंग करने वाले जालसाज बैंक का मोनोग्राम और हूबहू कार्ड तैयार नहीं कर सकते। ऐसे में ये लोग स्कीमर में कॉपी डेटा एक प्लेन कार्ड की मैग्नेटिक स्ट्रिप में कॉपी कार्ड मशीन के जरिए एक स्वाइप में ही सेव कर लेते हैं।
aajtaklives hindi news
सावधानी ही बचाव
•एटीएम से रकम निकालने से पहले जांच लें कि कोई स्कीमर तो नहीं है।
•स्वैपिंग पॉइंट के अगल-बगल हाथ लगाकर देखें। कोई वस्तु नजर आए तो सावधान हो जाएं। स्कीमर की डिजाइन ऐसी होती है कि वह मशीन का पार्ट लगे।
•कीपैड का एक कोना दबाएं, अगर पैड स्कीमर होगा तो एक सिरा उठ जाएगा।
•मौजूदा समय में जरूरी है कि डेबिट कार्ड का पिन बदल दें। इससे जालसाजों के जाल में फंसने से बच सकते हैं।