यहां ऑनलाइन लगती है लड़कियों की बोली, कोई भी कर सकता है खरीद-फरोख्त

102
Latest Weird Stories,young american girls are being sold online

सिएटल.अमेरिका में टीनेज लड़कियों की खरीद-फरोख का ऑनलाइन कारोबार चल रहा है और इसका जीता जागता नमूना हैं नताली। महज 15 साल की उम्र में नताली ने दो बार अपना घर छोड़ा। इसी दौरान एक शख्स ने हमदर्द बन उसे ऐसी वेबसाइट के जाल में फंसाया, जो सेक्स के लिए लड़कियों का सौदा करती थी। इसके बाद चंद महीनों में करीब 100 से ज्यादा बार नताली के जिस्म का सौदा हुआ। इसने मिलने वाली रकम नताली को उसी शख्स को सौंपना होता था, जिसने उसे इस दलदल तक पहुंचाया था। कई महीनों बाद एक डिटेक्टिव की मदद से वो किसी तरह इस जाल से बाहर आ सकी। दो साल पहले उसने एबीसी न्यूज के नाइटलाइन शो में अपनी कहानी शेयर की थी और बताया था कि ये सिर्फ उसकी कहानी नहीं है। ऐसे ही रोज ढेरों लड़कियां इन वेबसाइट्स का शिकार हो रही हैं।

स्कूल खराब ग्रेड मिले तो घर छोड़ा
– सिएटल की रहने वाली नताली बचपन से ही डॉक्टर बनना चाहती थीं, लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। 15 साल की उम्र में उसने घर छोड़ने का फैसला ले लिया। वो भी सिर्फ इसलिए क्योंकि उसे स्कूल में खराब ग्रेड्स मिले थे।
– नताली को लगा कि घर से भागना पेरेंट्स का सामना करने से ज्यादा आसान होगा। उसने इस बारे में अपने दोस्तों को बताया और फुटबॉल के मैदान से घर नहीं लौटी।
– वो बस लेकर सिएटल के डाउनटाउन पहुंची, जहां एक यूथ शेल्टर में उसकी मुलाकात खुद से बड़ी उम्र की एक लड़की से हुई। दोनों में दोस्ती हो गई और इन्होंने साथ में गांजे से लेकर शराब तक सबका मजा लिया।
– इधर, नताली की मां नेकोल को जैसे ही बेटी के घर छोड़ने का लेटर मिला तो उन्हें गहरा झटका लगा। उन्होंने नताली के पिता टॉम को फोन किया और दोनों ने तुरंत पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।
– टॉम ने बताया कि वो गहरे सदमे में थे और उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था कि वो कहां और किस हाल में होगी।

खौफनाक रात से हुआ सामना
– इस दौरान नताली का सामना एक खौफनाक रात से हुआ। जब वो सेक्स ट्रेड के धंधे में शामिल अपनी नई दोस्त के चक्कर में पहली बार रेप का शिकार हुई।
– हालांकि, पहली बार में ही सबक लेते हुए वो किसी तरह इस दलदल से भाग निकलने में कामयाब हुई और पुलिस स्टेशन पहुंची। यहां से उसने अपनी मां को फोन किया और अपने घर पहुंची।
– उसकी वापसी पर फैमिली बहुत खुश थी लेकिन नताली के साथ जो कुछ भी हुआ था, उसके चलते वो समझ नहीं पा रही थी आखिर कैसे लोगों से और फैमिली से डील करे।
– इधर, स्कूल में उसका जाना मुश्किल हो गया। यहां बच्चे उसे तरह-तरह टाइटल देने लगे और उसका तानों से सामना होने लगा। इन सबसे से परेशान होकर उसने दोबारा घर छोड़ने का फैसला कर लिया।

सेक्स ट्रेड के जाल में फंस गई नताली
– नताली इस बार अपनी सिएटल वाली पुरानी दोस्त की मदद से घर से भागी। उसने स्टॉप से बस ली और वहां पहुंच गई, जहां उसकी पुरानी दोस्त एक साथी के साथ इंतजार कर रही थी।
– यहां पुरानी दोस्त के साथ नताली की मुलाकात 32 साल के बरूती हॉपसन से हुई। उसने पहले बड़ा अपनापन दिखाया लेकिन बाद में उसने नताली की जिंदगी नर्क में तब्दील कर दी।
– उसने नताली का बैकपेजेज.डॉटकॉम से के परिचय कराया और इसे पैसे कमाने के लिए सुरक्षित और आसान तरीका बताया। साथ ही ये भी कहा कि इसमें पकड़े जाने का भी खतरा नहीं।
– नताली ने बताया कि बरूती ने मुझसे इस वेबसाइट पर कुछ अश्लील फोटोज के साथ ऐड्स पोस्ट कराए। इसके बाद एक घंटे में 25 से 30 कॉल आने लगे।
– उसने बताया की देखते ही देखते बरूती ने मुझे कैद कर लिया। मुझे इस काम के बदले एक घंटे के 150 डॉलर मिलने लगे और वीकेंड तक मैं करीब 4000 डॉलर कमा लेती और ये सब मुझे बरूती को देना होता था। इस दौरान करीब 100 बार मेरा सौदा हुआ।
– कुछ दिन बाद से उसने मुझे फिजिकली अब्यूज करना भी शुरू कर दिया था। मैं बाथरूम तक डोर लॉक किए बिना जाती थी। मैं घर से भाग न सकूं इसलिए वो मुझे अपने सामने के कमरे में सुलाता था।

108 दिन बाद मिला सुराग
– इधर, नताली के पेरेंट्स उसे ढूंढने में लगे थे। उसके पिता टॉम पूरा-पूरा दिन कार में उसे ढूंढते हुए निकाल देते थे। मुझे हमेशा डर लगा रहता था कि कहीं मुझे उसके बारे में कोई बुरी खबर न सुनने और देखने को मिले।
– टॉम ने बताया कि मैं इसी में बहुत शराब पीने लगा था और खुद को बिल्कुल खत्म करता जा रहा था। तभी उसके गायब होने के 108 दिन बाद रात में सिएटल वाइस स्क्वॉड को उसका सुराग मिला।
– स्क्वॉड ने वेबसाइट पर उसका ऐड देखा। इसके बाद उनके एक अफसर ने खुद को क्लाइंट की तरह पेश किया और उससे मिलने के लिए होटल के रूम तक पहुंचा।
– अफसर ने उससे कहा कि तुम नताली हो न। ये सुनते ही नताली के मन कई सारी उम्मीदें जग गई। मुझे लगा कि शायद अब मैं इस गंदगी से और बरूती के चंगुल से बाहर निकल सकूंगी।
– ये अफसर बिल गायर थे, जो लंबे समय से डिटेक्टिव हैं और उन्होंने ऐसी वेबसाइट्स के जरिए इस दलदल में फंसी नताली जैसी कई लड़कियों को बाहर निकाला है।

एक अफसर ने गंदगी से निकाला
– नताली की रेस्क्यू की रात उसका अफसर बिल के साथ एक खास रिश्ता बन गया, जो अब इतने साल बाद आज भी जिंदा है। बिल हर जन्मदिन पर उसे फोन करते हैं और मिलने आते हैं।
– नताली कहती हैं कि मुझे आज भी बिल से पहली मुलाकात याद है। उन्होंने ही मुझे उस गंदगी से बाहर निकाला और राहत की सांस लेने का मौका दिया। उन्होंने मुझे मेरे पिता की याद दिला दी थी।
– तब से अब तक नताली और उसकी फैमिली का बिल से अलग ही रिश्ता बन गया है। उसकी मां और उसके पिता अपनी बेटी वापस दिलाने के लिए बिल का धन्यवाद करते नहीं थकते।
– वहीं नताली अब 21 साल की हो गई है और अपने दो बच्चों को साथ मां-बाप के ही घर पर रह रही हैं। साथ ही वो बैकपेजेज.डॉटकॉम वेबसाइट के खिलाफ एक केस का हिस्सा हैं।