माता-पिता और गुरु का लेना चाहिए आशीर्वाद, पुत्रदा एकादशी पर कर सकते हैं 5 शुभ काम

35
putrada ekadashi, ekadashi 2019, vishnu puja tips, how to pray to goddess vishnu

गुरुवार और एकादशी का योग आज, इस दिन संतान के सुखी भविष्य के लिए किया जाता है व्रत

रिलिजन डेस्क। गुरुवार, 17 जनवरी को पौष मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी है। इस माह की एकादशी को पुत्रदा एकादशी कहा जाता है। उज्जैन ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार इस तिथि पर व्रत करने से योग्य संतान की प्राप्ति होती है और संतान से जुड़ी अन्य परेशानियां दूर हो सकती हैं। गुरुवार को एकादशी होने से इसका महत्व और अधिक बढ़ गया है। गुरुवार का कारक ग्रह गुरु है। अगर कुंडली में गुरु ग्रह का कोई दोष हो तो विवाह और भाग्य संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। गुरु ग्रह के दोषों को दूर करने के लिए गुरुवार और एकादशी के योग में खास पूजा-पाठ की जा सकती है। यहां जानिए इस एकादशी पर कौन-कौन से शुभ काम किए जा सकते हैं…

1. एकादशी पर भगवान विष्णु के मंदिर जाएं और भगवान को पीले वस्त्र अर्पित करें। महालक्ष्मी की भी पूजा करें। भगवान विष्णु-लक्ष्मी के सामने ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप का जाप 108 बार करें।

2. शिवजी को बेसन के लड्डू का भोग लगाएं। इससे गुरु ग्रह के दोष दूर होते हैं।

3. गुरु ग्रह से जुड़ी पीली वस्तुओं का दान करें। पीली वस्तु जैसे सोना, हल्दी, चने की दाल, आम, केले आदि।

4. गुरुवार को माता-पिता और गुरु के चरण स्पर्श करें, उनका आशीर्वाद प्राप्त करें।

5. गुरुवार को भगवान विष्णु के सामने घी का दीपक जलाएं। इसके बाद विष्णु मंत्र का जाप 108 बार करें। मंत्र : ऊँ नारायणाय नम:


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें