पूजा विधि और महत्व: नवरात्र में 2 से 10 साल तक की कन्याओं की करें पूजा

31
kanya puja meathod, chaitra navratri 2019 date, chaitra navratri 2019 starts date, chaitra navratri 2019 poojan vidhi, chaitra navratri kalash sthapana and poojan vidhi in hindi, chaitra navratri rituals, चैत्र नवरात्र 2019 कब है, chaitra navratri 2019 kab he, चैत्र नवरात्र 2019 पूजन विधि, चैत्र नवरात्र घट स्थापना विधि, chaitra navratra muhurat, ghat sthapana shubh muhurt, chaitra navratri 2019 pujan vidi in hindi, chaitra navratri devi stories in hindi, dainik bhaskar, hindi news, Hindi News, Hindi Samachar, हिंदी न्यूज़, हिंदी समाचार,Kanya Puja Chaitra Navratri 2019 Chaitra Navratri

लड़कियों को माना जाता है देवी का स्वरूप, इसलिए नवरात्र की अष्टमी और नवमी तिथि पर किया जाता है कन्या पूजन

नवरात्र में 2 से 10 साल तक की कन्याओं की करें पूजा, ये हैं महत्व

रिलिजन डेस्क इन दिनों चैत्र नवरात्र का पर्व मनाया जा रहा है। नवरात्र की अष्टमी और नवमी तिथि पर कन्या पूजन की परंपरा है। इस बार अष्टमी तिथि 13 अप्रैल और नवमी तिथि 14 अप्रैल को है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, कन्याएं साक्षात माता का स्वरूप मानी जाती है, इसीलिए नवरात्र में उनकी पूजा करने का विशेष महत्व है। कन्या पूजन की विधि और महत्व इस प्रकार है-

यह भी पढ़ें :- गणेशजी को दूर्वा चढ़ाते समय बोलना चाहिए 11 मंत्र, मिल सकती है सुख-समृद्धि

इस विधि से करें कन्या पूजन
– कन्या पूजन में 2 से लेकर 10 साल तक की कन्याओं की ही पूजा करनी चाहिए। इससे कम या ज्यादा उम्र वाली कन्याओं की पूजा वर्जित है।
– अपनी इच्छा के अनुसार, नौ दिनों तक अथवा नवरात्र के अंतिम दिन कन्याओं को भोजन के लिए आमंत्रित करें। कन्याओं को आसन पर एक पंक्ति में बैठाएं।
– ऊँ कौमार्यै नम: मंत्र से कन्याओं की पंचोपचार पूजा करें। इसके बाद उन्हें रुचि के अनुसार भोजन कराएं। भोजन में मीठा अवश्य हो, इस बात का ध्यान रखें।
– भोजन के बाद कन्याओं के पैर धुलाकर विधिवत कुंकुम से तिलक करें तथा दक्षिणा देकर हाथ में फूल लेकर यह प्रार्थना करें-
मंत्राक्षरमयीं लक्ष्मीं मातृणां रूपधारिणीम्।
नवदुर्गात्मिकां साक्षात् कन्यामावाहयाम्यहम्।।
जगत्पूज्ये जगद्वन्द्ये सर्वशक्तिस्वरुपिणि।
पूजां गृहाण कौमारि जगन्मातर्नमोस्तु ते।।

– तब वह फूल कन्या के चरणों में अर्पण कर उन्हें ससम्मान विदा करें।

यह भी पढ़ें :- रामायण और भगवान राम की 10 बातें जो आपको जीवनभर काम आएंगी

ये है कन्या पूजन का महत्व…
1.
श्रीमद्देवीभागवत महापुराण के तृतीय स्कंध के अनुसार, 2 वर्ष की कन्या को कुमारी कहते हैं। इसकी पूजा से गरीबी दूर होती है।
2. तीन साल की कन्या को त्रिमूर्ति कहते हैं। इसकी पूजा से धर्म, अर्थ व काम की प्राप्ति होती है। वंश आगे बढ़ता है।
3. चार साल की कन्या को कल्याणी कहते हैं। इसकी पूजा से सभी प्रकार के सुख मिलते हैं।
4. पांच साल की कन्या को रोहिणी कहते हैं। इसकी पूजा से रोगों का नाश होता है।
5. छ: साल की कन्या को कालिका कहा गया है। इसकी पूजा से शत्रुओं का नाश होता है।
6. सात साल की कन्या को चण्डिका कहते हैं। इसकी पूजा से धन व ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है।
7. आठ साल की कन्या को शांभवी कहते हैं। इसकी पूजा से दुख दूर होते हैं।
8. नौ साल की कन्या को दुर्गा कहते हैं। इसकी पूजा से परलोक में सुख मिलता है।
9. दस साल की कन्या को सुभद्रा कहा गया है। इसकी पूजा से सभी इच्छाएं पूरी होती हैं।

यह भी पढ़ें :- इस चतुर्थी पर गरीबों को गर्म कपड़े, कंबल, आदि दान करने का है खास महत्व

यह भी पढ़ें :- शिवलिंग की पूजा करते समय किन बातों का ध्यान रखना जरूरी है?


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें