हालत देखकर लगता है पाकिस्तानी जेल में गजानंद को किया गया टॉर्चर

59
gajanand sharma released after 36-year from pakistan jail,,pakistan,amritsar,indian,lakhpat jail,jaipur,nahargarh,union home ministry

अटारी बार्डर/अमृतसर।स्वतंत्रता दिवस से 2 दिन पहले सोमवार को पाकिस्तान ने जयपुर के गजानंद शर्मा समेत 29 भारतीय कैदियों को रिहा किया। भारत ने भी पाकिस्तानी 7 कैदी रिहा किए। करीब 36 साल बाद पाकिस्तान की कोट लखपत जेल से रिहा होने के बाद 69 साल के गजानंद शर्मा और 26 मछुआरे व दो अन्य सिविलियन अटारी-वाघा बार्डर के जरिए वतन लौटे। गजानंद को 2 लोगों ने सहारा दिया। हालांकि, गजानंद को लेने के लिए परिवार वाले नहीं पहुंचे। क्योंकि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने गजानंद के बेटे मुकेश व अन्य परिजनों के अमृतसर आने पर रोक लगा दी थी। बताया जा रहा है पाकिस्तान मेंं गजानंद को 2 माह की सजा हुई थी लेकिन उसे 36 साल जेल में काटने पड़े।

सिर हिलाकर खुशी जता पाए गजानंद

गजानंद का परिवार पहले अमृतसर के गांव महार कलां में रहता था बाद में थाना क्षेत्र नाहरगढ़ इलाके में आ गया। मई 2018 में पुलिस ने दस्तावेजों के तस्दीक के दौरान बताया कि वह पाक जेल में बंद हैं। गजानंद की हालत देख कर लगता है कि पाक जेल में उनको प्रताड़ित किया गया। वह बोल पाने की स्थिति में नहीं है। सिर्फ सिर हिला कर वतन पहुंचने की खुशी जताते हैं।

गजानंद के घर से…

मखनी देवी पूरे परिवार के साथ पूजाघर में बैठी थीं। अखंड दीप प्रज्वलित था। भास्कर रिपोर्टर ने कहा- आप सबको बधाई हो। गजानंदजी वाघा बॉर्डर पहुंच गए हैं। जवाब में मखनी देवी ने कहा- भैया! आपने सबसे पहले मुझे ये खुशखबरी दी है। आप ही सबसे पहले मेरे पास आए हो। गजानंद की खबर आपने ही सबसे पहले छापी थी। इसके बाद अखबार-टीवी में खबर चाली। आपने लिखा था कि गजानंद जरूर आएगा। आप मेरे घर खुशी लेकर आए हो। सिर पर हाथ रखकर कहा – जीते रहो बेटा