सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस बोले- वो कोर्ट में इस बात पर सफाई दें

0
16
SC orders Rahul Gandhi to explain Chowkidar Chor Hai quote,Rahul Gandhi, Supreme Court, Meenakshi Lekhi, Chief Justice, New Delhi, Ranjan Gogoi, Bharatiya Janata Party, Rafael Deal, Anil Ambani, Yashwant Sinha, Prashant Bhushan, Arun Shourie - देश न्यूज़,देश समाचार

चौकीदार चोर है’ नारे पर फंस गए राहुल गांधी, इस बात को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने भेज दिया नोटिस

सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस बोले- वो कोर्ट में इस बात पर सफाई दें

नेशनल डेस्क, नई दिल्ली राफेल को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपने एक बयान को लेकर फंसते नजर आ रहे हैं। ‘चौकीदार चोर है’ के बयान पर सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ नोटिस जारी किया है। कांग्रेस अध्यक्ष के खिलाफ कोर्ट की अवमानना करने पर ये नोटिस जारी हुआ है। इस मामले की अगली सुनवाई 23 अप्रैल को होगी, तब तक राहुल गांधी को अपना जवाब देना होगा। भारतीय जनता पार्टी की नेता मीनाक्षी लेखी ने सुप्रीम कोर्ट में राहुल गांधी के खिलाफ याचिका दायर की थी।

क्या था मामला ?
– सुप्रीम कोर्ट ने राफेल डील से जुड़े फैसले पर पुनर्विचार याचिका को मंजूर किया था। जिसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने टिप्पणी की थी कि अब सुप्रीम कोर्ट भी कह रहा है कि चौकीदार चोर है। इसी बयान को लेकर बीजेपी नेता मीनाक्षी लेखी सुप्रीम कोर्ट पहुंची थीं और उन्होंने कोर्ट की अवमानना का आरोप लगाया था।
– इस मामले में सोमवार को सुनवाई हुई, इस दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने माना कि हमने ये बयान कभी नहीं दिया है, हम इस मसले पर सफाई मांगेंगे। कोर्ट ने कहा कि हम ये साफ करना चाहते हैं कि जो भी विचार कोर्ट को लेकर मीडिया में कहे गए हैं, वह पूरी तरह से गलत हैं। इसी मामले की पूरी जानकारी को लेकर हम सफाई मांगना चाहेंगे। हमें उम्मीद है कि राहुल गांधी इस बयान पर अपनी सफाई देंगे।

यह भी पढ़ें :- बिना कपड़ों की गड्ढे में मिली बॉडी, दरिंदगी के बाद महिला…

 

राहुल गांधी हर रैली में लगवाते हैं ये नारा
– बता दें कि ‘चौकीदार चोर है’ का नारा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार अपने भाषणों और रैलियों में लगवाते रहे हैं। राहुल गांधी का आरोप है कि पीएम मोदी ने राफेल डील में घोटाला किया है और अनिल अंबानी को करीब 30 हज़ार करोड़ रु का फायदा पहुंचाया है।
– सुप्रीम कोर्ट इससे पहले राफेल मामले में केंद्र सरकार को क्लीन चिट दे चुका था, कोर्ट ने राफेल विमान की खरीद प्रक्रिया को सही माना था। हालांकि, इसके बाद प्रशांत भूषण, अरुण शौरी और यशवंत सिन्हा ने कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका डाली, जिसे कोर्ट ने स्वीकार कर लिया साथ ही एक अखबार में छापे गए दस्तावेजों को सबूत मानने की हामी भरी थी।

यह भी पढ़ें :- तकिए से पत्नी का मुंह दबाया, रस्सी-दुपट्टे से गला घोंटा…इसके बाद…

यह भी पढ़ें :- एक साथ पोस्टमॉर्टम, एक ही अर्थी और एक ही चिता पर हुआ अंतिम संस्कार

यह भी पढ़ें :-जख्मी हालत में रातभर तड़पती रही वो, गैंगरेप के पीछे की वजह है चौंकाने…


Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें फेसबुक पर ज्वाइन करें